आजम खान की भैंस के बाद कांग्रेस नेता की घोड़ी को तलाशेगी रामपुर पुलिस, जानें पूरा मामला

ABHINAV AZAD, Last updated: Sun, 7th Nov 2021, 7:20 AM IST
  • सपा सांसद आजम खां की भैंसों को तलाशने वाली रामपुर पुलिस अब कांग्रेस किसान नेता हाजी नाज़िश खान की घोड़ी को तलाशेगी. इस बाबत कांग्रेस नेता का कहना है कि घोड़ी रानी को कोई पांच नवंबर को खोलकर ले गया, जिसकी कीमत तकरीबन 82 हजार रूपए है.
रामपुर पुलिस अब कांग्रेस किसान नेता हाजी नाज़िश खान की घोड़ी को तलाशेगी.

लखनऊ. सपा सांसद आजम खां की भैंसों को तलाशने वाली रामपुर पुलिस ने उस वक्त काफी सुर्खियां बटोरी थी. अब रामपुर पुलिस कांग्रेसी नेता की घोड़ी की तलाश करेगी. दरअसल, कांग्रेसी नेता की गुहार पर एडीजी ने इस प्रकरण को संज्ञान लिया है. साथ ही पुलिस ने इस मामले में गुमशुदगी की सूचना दर्ज कर ली है. हालांकि वहीं इस मामले पर कोतवाल ने तहरीर तक नहीं मिलने की बात कही है.

बताते चलें कि आजम खां के तबेले से भैसें चोरी हो गई थी, जिसको पुलिस ने चौबीस घंटे के भीतर तलाश लिया था. उस वक्त उत्तर प्रदेश में सपा की सरकार थी और आजम खां कैबिनेट मंत्री थे. इसके अलावा रामपुर पुलिस कुछ साल पहले डीएम रहे अमित किशोर के कुत्ते को भी तलाश कर उन्हें सौंप चुकी है. अब रामपुर पुलिस को कांग्रेसी नेता की घोड़ी की तलाश है. कांग्रेस किसान नेता हाजी नाज़िश खान कोतवाली थाना क्षेत्र के चौक मोहम्मद सईद खां निवासी हैं. उनका कहना है कि उनके पास रानी नाम की एक घोड़ी थी जोकि, तोपखाना गेट हजरतपुर चौराहे के पास स्थित एक चक्की के पीछे बंधती थी. उन्होंने आगे बताया कि घोड़ी रानी को कोई पांच नवंबर को खोलकर ले गया था. साथ ही उन्होंने घोड़ी की कीमत तकरीबन 82 हजार रूपए बताई है.

यूपी चुनाव: कांग्रेस के साथ नहीं अखिलेश की साइकिल पर सवार होगी जयंत की RLD

मिली जानकारी के मुताबिक, इस मामले में कांग्रेस नेता ने पहले कोतवाली पुलिस से शिकायत की थी. लेकिन कोई सुनवाई नहीं होने पर इस मामले में उन्होंने एडीजी बरेली से भी शिकायत की. जिसके बाद एडीजी बरेली ने संज्ञान लेते हुए डीआईजी मुरादाबाद ओर रामपुर पुलिस को निर्देशित करते हुए कार्रवाई को कहा था, जिसके बाद कोतवाली पुलिस ने ऑन लाइन गुमशुदगी दर्ज कर ली है. हालांकि इस बाबत शहर कोतवाल किशन अवतार सिंह का कहना है कि उनको इस मामले की कोई जानकारी नहीं है. साथ ही उन्होंने कहा कि कोई रिपोर्ट दर्ज नहीं की गई है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें