स्मार्ट मीटर में गड़बड़ी जांच के लिए देने होंगे 175 रुपए, डिस्कॉम MD का आदेश

Smart News Team, Last updated: 04/12/2020 04:29 PM IST
  • उत्तर प्रदेश में अब स्मार्ट मीटर में रीडिंग की गड़बड़ी की जांच के लिए उपभोक्ताओं को 175 रुपये देने होंगे. पावर कॉरपोरेशन के एमडी एम. देवराज ने गुरुवार को सभी डिस्कॉम के प्रबंध निदेशकों को आदेश जारी किया.
(प्रतिकात्मक फोटो)

लखनऊ- उत्तर प्रदेश में अब स्मार्ट मीटर में रीडिंग की गड़बड़ी की जांच के लिए उपभोक्ताओं को 175 रुपये देने होंगे. पावर कॉरपोरेशन के एमडी एम. देवराज ने गुरुवार को सभी डिस्कॉम के प्रबंध निदेशकों को आदेश जारी किया. उन्होंने बताया कि यदि उपभोक्ता को अपने स्थापित मीटर की रीडिंग पर शक है, तो उपभोक्ता चेक मीटर लगाने के लिए आवेदन कर सकता है. उपभोक्ता को टैरिफ ऑर्डर -2020 के अनुसार स्मार्ट मीटर को चेक करने के लिए मीटर टेस्टिंग एवं चेकिंग के लिए निर्धारित शुल्क 175 जमा करना होगा.

लखनऊ में हर साल होगा जिला ओलंपिक, खेल विकास एवं प्रोत्साहन समिति की हुई बैठक

उन्होंने बताया कि विद्युत प्रदाय संहिता 2005 के अनुसार आवेदन के सात दिनों के भीतर वर्तमान मीटर के साथ ही सिरीज में एक चेक मीटर स्थापित करते हुये मीटर का परीक्षण किया जाएगा. उन्होंने कहा कि यदि परिसर पर चेक मीटर की स्थापना के 7-15 दिनों के बाद यदि मीटर सही पाया जाता है तो कोई कार्रवाई नहीं की जायेगी. यदि मीटर तेज या धीमा पाया जाता है.

यूपी MLC चुनाव: लखनऊ में 23 प्रत्याशियों का मतगणना स्थल पर हंगामा, धरने पर बैठे

अगर उपभोक्ता रिपोर्ट से सहमत हुआ है तो पूर्व तीन महीने का बिल अंतिम परिणाम के अनुसार बिल में समायोजित किया जायेगा. स्मार्ट मीटर के चेक मीटर के लिए स्मार्ट मीटर या सामान्य मीटर लगाया जा सकता है. लेकिन चेक मीटर में परीक्षण के बाद यदि मीटर बदलने की आवश्यकता हो तो स्मार्ट मीटर के स्थान पर स्मार्ट मीटर ही लगाया जायेगा.

पेट्रोल डीजल आज 4 दिसंबर का रेट: लखनऊ, कानपुर, वाराणसी, मेरठ, गोरखपुर में तेल का दाम बढ़ा

नई शिक्षा नीति 2020 ने खोले समग्र बहुविषयक शिक्षा के रास्ते: डॉ अमृता दास

UP सरकार का ऐलान, 5 अर्जुन और 1 द्रोणाचार्य विजेता को मिलेंगे हर महीने 20 हजार

यूपी MLC चुनाव रिजल्ट: शिक्षक सीट पर मेरठ में बीजेपी जीती, आगरा में BJP हारी

सुप्रीम कोर्ट ने इंडो इस्लामिक फाउंडेशन के खिलाफ दायर याचिक की खारिज

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें