कोरोना काल में करीब 28 फीसदी उम्मीदवारों ने छोड़ी यूपीएसईई 2020 प्रवेश परीक्षा

Smart News Team, Last updated: 20/09/2020 04:51 PM IST
परीक्षा के लिए कुल 206 परीक्षा केंद्र बनाए गये हैं.  इसमें 187 परीक्षा केंद्र प्रदेश में एवं 19 परीक्षा केंद्र प्रदेश से बाहर बनाये गये हैं. इन केंद्रों में परीक्षा के लिए करीब 71.5% परीक्षार्थी शामिल हुए. परीक्षा केंद्रों में सोशल डिस्टेंसिंग और थर्मल स्कैनिंग की व्यवस्था की गयी है ताकि संक्रमण को फैलने से रोका जा सके. 
प्रतीकात्मक फोटो

लखनऊ. विश्वविद्यालय में दाखिला लेने के लिए प्रवेश परीक्षाएं शुरु हो गई है. रविवार को डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय की उत्तर प्रदेश राज्य प्रवेश परीक्षा 2020 का आयोजन किया गया. रविवार की सुबह परीक्षा सुबह 9:00 बजे से शुरू हुई और 12:00 बजे खत्म हुई. कोरोना संक्रमण के चलते अभ्यर्थियों को एक घंटा पहले रिपोर्ट करने के निर्देश दिए गए थे. परीक्षा में करीब 71.5% परीक्षार्थी शामिल हुए बताया जा रहा है कि जबकि बाकि बचे 28 प्रतिशत परीक्षार्थी ने परीक्षा दी ही नहीं. कोरोना संक्रमण के कारण दूर दराज क्षेत्र से आने वाले बच्चों को काफी समस्या का सामना करना पड़ रहा है.

विश्वविद्यालय के प्रवक्ता आशीष मिश्रा ने बताया कि परीक्षा के लिए कुल 206 परीक्षा केंद्र बनाए गये हैं.  इसमें 187 परीक्षा केंद्र प्रदेश में एवं 19 परीक्षा केंद्र प्रदेश से बाहर बनाये गये हैं. उन्होंने बताया कि समस्त परीक्षा केन्द्रों पर परीक्षा केंद्रों को सेनेटाइज करने की व्यवस्था की गई है. परीक्षा केंद्रों में सोशल डिस्टेंसिंग की व्यवस्था की गयी है ताकि संक्रमण को फैलने से रोका जा सके. परीक्षा केंद्र पर प्रवेश से पहले थर्मल स्कैनिंग की जाती है. प्रदेश और प्रदेश के बाहर के परीक्षा केन्द्रों पर आईसोलेशन रूम भी बनाये गये हैं.

CM योगी ने शिक्षकों के तबादले पर लगी रोक हटाई, दूसरे जिलों में भी होगा ट्रांसफर

आशीष मिश्रा ने यह भी बताया कि यह परीक्षा तीन पालियों में सम्पन्न करवाई जाएगी. परीक्षा की प्रथम पाली प्रातः 9 बजे से प्रारंभ हुई. इसमें अभ्यर्थियों को परीक्षा केंद्र पर एक घंटे पहले रिपोर्ट करने के निर्देश दिए गए हैं. प्रदेश के बाहर दिल्ली, चंडीगढ़, देहरादून, पटना, मुम्बई, भोपाल, जयपुर, रांची, रुड़की, कलकत्ता में परीक्षा केंद्र हैं. हांलाकि प्रशासन अपने स्तर पर पूरी तैयारी कर रहा है लेकिन ट्रांसपोर्ट और अन्य समस्याओं के चलते परीक्षार्थीयों के लिए परीक्षा केंद्रों में पहुँचना काफी मुश्किल भरा कार्य है. 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें