CM योगी का UP कोरोना जांच में नंबर 1, एक करोड़ टेस्ट करने वाला देश का पहला राज्य

Smart News Team, Last updated: Wed, 30th Sep 2020, 5:37 PM IST
  • CM आवास पर अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा बैठक में योगी आदित्यनाथ के कहा कि यूपी में अभी तक एक करोड़ से अधिक कोरोना की जांच हो चुकी है, जो एक रिकॉर्ड है. प्रदेश सरकार कोरोना के खिलाफ पूरी तत्परता से लड़ाई लड़ रही है. कोरोना के प्रसार को रोकने और मरीजों के बेहतर इलाज के लिए इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर की भी महत्वपूर्ण भूमिका रही है.
उत्तर प्रदेश में अभी तक एक करोड़ से अधिक कोरोना जांच की जा चुकी हैं.

लखनऊ. उत्तर प्रदेश एक करोड़ कोरोना जांच वाला देश का पहला राज्य बन गया है. सुबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का कहना है कि प्रदेश में अब तक एक करोड़ से अधिक कोरोना के टेस्ट हो गए हैं जो अपने आपमें एक रिकॉर्ड है. 

मुख्यमंत्री के अनुसार उन्होंने कोरोना के संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए डोर टू डोर सर्वे, सर्विलांस और अधिक से अधिक मेडिकल टेस्टिंग की करवाने के लिए निर्देश दिए हैं. प्रदेश सरकार कोरोना के खिलाफ पूरी तत्परता से लड़ाई लड़ रही है.

हाथरस गैंगरेप मामले में जानें कब क्या हुआ, पुलिस ने आधी रात क्यों किया संस्कार

आपको बता दें कि बुधवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अपने सरकारी आवास पर एक उच्च स्तरीय बैठक में सरकार की अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे. इस मौके पर योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कोरोना के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए और मरीजों को बेहतर उपचार सुविधा उपलब्ध कराने के लिए इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर की महत्वपूर्ण भूमिका रही है. आगे भी यह सुनिश्चित किया जाए कि सभी जिलों में यह सेंटर पूरी सक्रियता के साथ काम करें.

बाबरी विध्वंस फैसले पर बोले CM योगी आदित्यनाथ- सच की जीत, कांग्रेस माफी मांगे

इसके अलावा मुख्यमंत्री ने कहा कि सर्विलेंस कार्यों की निरंतर निगरानी की जाए क्योंकि यह सबसे ज्यादा जरूरी है. सर्विलांस गतिविधियों में किसी भी स्तर पर कोई भी लापरवाही ना होने पाए. उन्होंने कोरोना अस्पतालों की व्यवस्थाओं को भी बेहतर रखने के निर्देश दिए. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि इन हॉस्पिटल में दवा और ऑक्सीजन बैकअप सहित अन्य चीजों की पर्याप्त उपलब्धता बनी रहे. इसके अलावा कोरोना अस्पतालों में आवश्यकता के अनुरूप अतिरिक्त लोगों की भी व्यवस्था की जाए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें