नेत्रहीन बच्चों की पढ़ाई होगी आसान, 14 जिलों के 1206 छात्रों को टॉकिंग टैबलेट देगी योगी सरकार

Uttam Kumar, Last updated: Sat, 4th Dec 2021, 8:48 AM IST
  • उत्तर प्रदेश सरकार यूपी के 14 जिलों के सरकारी प्राइमरी स्कूल में पढ़ने वाले 1200 से ज्यादा नेत्रहीन छात्रों को टॉकिंग टैबलेट देने की तैयारी कर रही है. इसकी मदद से नेत्रहीन बच्चे सुन कर पढ़ाई कर सकते हैं.
नेत्रहीन बच्चों को टॉकिंग टैबलेट देगी योगी सरकार. (फाइल फोटो)

लखनऊ. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अगुआई वाली राज्य सरकार ने यूपी के 14 जिलों के 1200 से ज्यादा नेत्रहीन छात्रों को पढ़ाई के लिए टॉकिंग टैबलेट देने की तैयारी कर रही है. यूनिसेफ की पहल पर राज्य के 14 जिलों में सरकारी प्राइमरी स्कूलों में पढ़ने वाले 1206 नेत्रहीन बच्चों को टैबलेट  दिये जाएंगे. इस संबंध में समग्र शिक्षा अभियान की अपर परियोजना निदेशक डा सरिता तिवारी द्वारा आदेश जारी कर दिया है. 

नेत्रहीन छात्रों को पढ़ाई में आने वाली बाधा को देखते हुए उन्हें टॉकिंग टैबलेट देने का फैसला लिया गया है. टॉकिंग टैबलेट कोई मदद से पूरी तरह से नेत्रहीन बच्चे भी इससे सुन कर पढ़ाई कर सकेंगे. इसके साथ ही नेत्रहीन छात्रों को टॉकिंग टैबलेट से पढ़ाई के लिए इन 14 जिलों में 125 स्पेशल एजुकेटर भी तैयार किए जाएंगे. राज्य के जिस ब्लॉक के बच्चों को ये टैबलेट दिया जाएगा वहां के डाटा एंट्री ऑपरेटर व नोडल टीचर को भी प्रशिक्षित किया जाएगा ताकि इसका पूरा लाभ बच्चों को मिल सके. जिला समन्वयक समेकित शिक्षा इसके प्रभारी होंगे.  

लखनऊ: विश्व दिव्यांग दिवस पर विशेष रोजगार मेला, स्वरोजगार के लिए 10 हजार की आर्थिक मदद

ये सभी टैबलेट मंडलायुक्त या जिलाधिकारी की मौजूदगी में वितरित किया जाएगा. इन टैबलेट का स्वामित्व दिव्यांग विद्यार्थी का होगा. इनकी वारंटी तीन वर्ष की होगी. यदि वारंटी के बाद ये खराब होंगे तो उसे ठीक कराने की जिम्मेदारी जिला परियोजना कार्यालय की होगी. इन पर लर्निंग मैटीरियल अपलोड करने की जिम्मेदारी एससीईआरटी की होगी. इससे विद्यार्थियों के ज्ञान का आकलन भी किया जाएगा.  जिन 14 जिलों का चयन किया गया है उनमें गोरखपुर, देवरिया, कुशीनगर, महाराजगंज, गोण्डा, बहराइच, बलरामपुर, लखनऊ, हरदोई, श्रावस्ती, लखीमपुर, रायबरेली, सीतापुर व उन्नाव शामिल हैं. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें