UP में गाय के गोबर से बिजली बनाएंगे गो संरक्षण केंद्र, योगी सरकार की ये है तैयारी

Smart News Team, Last updated: Tue, 10th Aug 2021, 5:12 PM IST
  • उत्तर प्रदेश की योगी सरकार अब गो संरक्षण केंद्रों को लिए एक अच्छी पहल लेकर आ रही है. यूपी सरकार की इस पहल से प्रदेश के गो संरक्षण केंद्र आत्मनिर्भर बनेंगे. इसके साथ ही योगी सरकार विशेषज्ञ संस्थाओं की मदद से गो संरक्षण केंद्रों के गोबर का उपयोग ऊर्जा की आवश्यकता की पूर्ति के लिए करेगी.
योगी सरकार में गो संरक्षण केंद्र बनेंगे आत्मनिर्भर, गोबर से बनेगी ऊर्जा

लखनऊ. गो संरक्षण केंद्रों के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने एक शानदार फैसला लिया है. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के दिशा-निर्देशों के अनुसार प्रदेश के गो संरक्षण केंद्र अब आत्म निर्भर बनेंगे. यूपी के गो संरक्षण केंद्रों के गोबर का उपयोग ऊर्जा की आवश्यकता की पूर्ति के लिए लिया जाएगा. इसके लिए यूपी सरकार विशेषज्ञ संस्थाओं की मदद लेगी और इस प्रोजेक्ट के लिए शासन ने निर्देश दे दिए हैं. इस प्रोजेक्ट को लेकर पशुपालन विभाग के एक अधिकारी ने कहा है कि उत्तर प्रदेश सरकार अब गो संरक्षण केंद्रों को आत्मनिर्भर बनाने का प्लान बना रही है.

योगी सरकार का लक्ष्य है कि वाराणसी में गोवर्धन योजना के तहत तथा गोरखपुर में गोबर से एलीपीजी गैस उत्पादन प्लांट से इसकी शुरुआत होनी चाहिए. इसके बाद सरकार अन्य स्थानों पर भी इस तरह का प्लान लागू करने के बारे में सोच रही है. इस प्रोजेक्ट के लिए आईआईटी कानपुर व आईआईटी बीएचयू के साथ बात हुई है.

यूपी के शहरों की गौशालाओं की देखरेख के लिए 14 पशु चिकित्साधिकारियों की होगी भर्ती

वहीं गोवंश संरक्षण स्थलों के रखरखाव की व्यवस्थाओं में कमी को लेकर मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी ने काफी नाराजगी जताई. इसके लिए उन्होंने जिन क्षेत्रों में गोवंश संरक्षण स्थलों पर कमी है उनके डीएम व कमिश्नर को इन कमियों को दूर करने के निर्देश दिए हैं. इसके साथ ही राजेंद्र कुमार ने कहा कि हमें काफी शिकायतें मिल रही थीं कि कुछ गोवंश स्थलों पर चारा, भूसा व पानी की कमी है इसलिए अधिकारियों को निरीक्षण के निर्देश दिए हैं. वहीं उन्होंने बताया कि अगर किसी गोवंश की की मृत्य होगी तो उसके अंत्योष्टि की भी अब ठीक-ठाक व्यवस्था की जाएगी. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें