उत्तराखंड की राज्यपाल बेबी रानी मौर्य का इस्तीफा, यूपी से चुनाव लड़ने की अटकलें

MRITYUNJAY CHAUDHARY, Last updated: Wed, 8th Sep 2021, 1:37 PM IST
  • सूत्रों के अनुसार उत्तराखंड की उत्तराखंड की राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को अपना इस्तीफा भेजा हैं. इनके इस्तीफे को लेकर चर्चा है कि वह उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 लड़ सकती है.
उत्तराखंड की राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को भेजा इस्तीफा

लखनऊ. सूत्रों से पता चला है कि उत्तराखंड के राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने बुधवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को अपना इस्तीफा भेजा है. उत्तराखंड के राज्यपाल बेबी रानी मौर्य के इस इस्तीफे को आगामी उत्तर प्रदेश चुनाव से जोड़ा जा रहा है. राजनीति गलियारों में चर्चा है कि बेबी रानी मौर्य यूपी विधानसभा चुनाव 2022 में वह उम्मीदवार के रूप में इलेक्शन लड़ सकती है. जिसके चलते ही उन्होंने राज्यपाल पड़ से इस्तीफा दिया है.

उत्तराखंड राज्यपाल बेबी रानी मौर्य के इस्तीफे से यूपी की राजनीति में और भी गर्मी आ सकती है. क्योंकि आज ही इन्होंने इस्तीफा दिया है और आज ही बीजेपी ने यूपी विधानसभा चुनाव के लिए प्रभारी और सह-प्रभारी नियुक्त किया है. इसके साथ भाजपा ने क्षेत्र स्तर पर भी प्रभारी और सह-प्रभारी की नियुक्ति की है. जिसके तहत आगामी विधानसभा चुनाव का प्रभारी केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान को बनाया गया है. यूपी चुनाव को लेकर बीजेपी की हुई इन नियुक्तियों को लेकर अनुमान लगाया जा रहा है कि बेबी रानी मौर्य को भी कोई जिम्मेदारी दिया जा सकता हैं.

UP Election 2022: बीजेपी ने धर्मेंद्र प्रधान को बनाया यूपी विधानसभा चुनाव 2022 का प्रभारी, अनुराग ठाकुर, सरोज पांडे, अर्जुन राम मेघवाल सह प्रभारी

इतना ही नहीं बुधवार को कांग्रेस ने भी यूपी चुनाव को लेकर बड़ा फैसला लिया है. कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा कि कांग्रेस सपा, बसपा से गठबंधन के लिए आतुर नहीं. कांग्रेस सभी 403 सीट पर अकेले चुनाव लड़ेगी. साथ ही हाल ही में बसपा प्रमुख मायवती ने भी साफ कर दिया हैं कि वह भी यूपी विधानसभा चुनाव अकेले ही लड़ेगी. इतना ही नहीं यूपी विधानसभा चुनाव पहली बार लड़ने जा रही आम आदमी पार्टी ने भी अकेले चुनाव लड़ने का ऐलान कर चुकी है. लेकिन अभी तक समाजवादी पार्टी ने चुनाव को लेकर अपना कोई बयान जारी नहीं किया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें