राम मंदिर निर्माण के पत्थरों को लेकर अयोध्या संतों और VHP की कांग्रेस को चेतावनी

Smart News Team, Last updated: Thu, 17th Sep 2020, 8:14 AM IST
  • राम मंदिर निर्माण के लिए राजस्थान के प्रसिद्ध गुलाबी पत्थरों का इस्तेमाल को लेकर अयोध्या के संतों का कहना है कि राजस्थान सरकार भरतपुर जिले के बांसी पहाड़पुर में इसके खनन संबंधी मुद्दों जल्द से जल्द हल करे.
राम मंदिर निर्माण के पत्थरों को लेकर अयोध्या संतो और VHP की कांग्रेस को चेतावनी

लखनऊ. अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए राजस्थान के प्रसिद्ध गुलाबी पत्थरों का इस्तेमाल किया जाना है. इसके लिए अयोध्या के संत चाहते हैं कि राजस्थान सरकार भरतपुर जिले के बांसी पहाड़पुर में खनन संबंधी मुद्दों को जल्द से जल्द हल करें. संतों और विपिह ने इस मामले में चेतावनी दी है कि अगर मामला जल्द ही नहीं सुलझा तो कांग्रेस के खिलाफ लामबंदी की जाएगी. संतों का कहना है कि इसका हल जल्दी निकलना चाहिए जिससे राम मंदिर निर्माण में पत्थरों की आपूर्ति में कोई बाधा ना पड़े. बता दें कि फिलहाल राजस्थान सरकार ने रॉयल्टी को लेकर बांसी के पहाड़पुर में खनन बंद कर दिया है.

शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व चेयरमैन वसीम रिजवी कोरोना पॉजिटिव, खुद को किया आइसोलेट

विश्व हिंदू परिषद और अयोध्या के संतों ने चेतावनी दी है कि अगर राजस्थान सरकार जल्द ही इस मुद्दे का हल नहीं निकाल पाती है तो वह देश भर में कांग्रेस के खिलाफ लामबंद होंगे. गौरतलब है कि पिछले कई वर्षो से राम मंदिर निर्माण के लिए भरतपुर से पत्थर लाया जा रहा है. अयोध्या में राम जन्मभूमि न्यास कार्यशाला में पड़े नक्काशीदार पत्थर भरतपुर से ही मगांए गए हैं. लेकिन पिछले दिनों राजस्थान में भरतपुर प्रशासन ने अवैध रूप से पत्थर ले जा रहे 25 ट्रकों को पकड़ा था. इसके बाद से ही सरकार ने वहां खनन पर रोक लगा दी. 

बेरोजगारी के खिलाफ शिवपाल यादव की प्रसपा की लखनऊ से दिल्ली तक साइकिल रैली

इस मामले में ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास के उत्तराधिकारी महंत कमल नयन दास ने कहा कि राजस्थान में कांग्रेस सरकार को भरतपुर में पत्थरों के अवैध खनन के मुद्दे को हल करना चाहिए. उन्होंने बताया कि अक्टूबर में टेस्ट पाइलिंग के बाद राम मंदिर का निर्माण शुरू हो जाएगा. ऐसे में, अगर भरतपुर से पत्थरों की आपूर्ति में देर होती है तो इसे राम मंदिर निर्माण को रोकने के लिए कांग्रेस पार्टी के चाल के रूप में समझा जाएगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें