मंत्री स्वाति सिंह ने नायब तहसीलदार को कहा गुंडा, सोशल मीडिया पर‌ वीडियो वायरल

Smart News Team, Last updated: 07/10/2020 09:01 AM IST
योगी सरकार में राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार स्वाति सिंह सरोजनी नगर के नायब तहसीलदार मनीष त्रिपाठी को गुंडा बोलने का वीडियो सोशल वीडियो पर वायरल‌ हो रहा है.  नायब तहसीलदार मनीष का कहना कि सुबह से लेकर देर‌ रात तक काम करने के बाद भी मुझे गुंडा कहा? मंत्री स्वाति सिंह से मुझे ऐसी उम्मीद नहीं थी.
मंत्री स्वाति सिंह, फाइल फोटो

लखनऊ. योगी सरकार में राज्य मंत्री का अधिकारी को गुंडा बोलने का वीडियो सोशल वीडियो पर वायरल‌ हो रहा है. इन वीडियो में राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार स्वाति सिंह सरोजनी नगर के नायब तहसीलदार मनीष त्रिपाठी को फटकार लगाते हुए गुंडा कह रही है.

इस वायरल हुए सोशल मीडिया के वीडियो में स्वाति सिंह कह रही हैं कि..नायब तहसीलदार हो न? नायब तहसीलदार है कि गुंडा है. मुझे ऐसे लोग नहीं चाहिए जो कि न्यूसेंस क्रिएट करें. सभी अधिकारी यहीं बैठे तुम तहसील दिवस में कहां घूम रहो हैं? यह वीडियो शाम को 8.10 पर एक लखनऊ के ट्विटर हेंडल से पोस्ट हुआ था. इसके आते ही यह रीट्वीट होता गया. काफी लोगों का रिप्लाई आने लगा. इसके बाद इसकी जानकारी नायब तहसीलदार मनीष त्रिपाठी तक पहुंची. उन्होंने अपने जवाब में कहा कि मंत्री स्वाति सिंह ने उन्हें लाइसेंसी रखने पर रिवाल्वर आपत्ति की थी.

लखनऊ जिला जेल स्टिंग ऑपरेशन में फंसे फॉर्मासिस्ट और बंदीरक्षक सस्पेंड

नयाब तहसीलदार मनीष ने यह भी कहा कि रिवाल्वर अपनी सुरक्षा के लिए रखनी पड़ती है. रात के समय खनन रोकने की जिम्मेदारी मेरे पास है. इस कारण मैंने दर्जनों गाडियां पकड़ी है. इसलिए काफी दुश्मन भी है. रात के समय जब अपनी टीम के साथ निकलते हैं तो लाइसेंसी रिवाल्वर रख लेते हैं. ताकि अपनी और टीम की सुरक्षा कर सके. 

यूपी विधानसभा चुनाव में सुपरवाइजर बनाए गए 16 IAS अफसर चुनाव आयोग ने हटाए

नायब तहसीलदार मनीष त्रिपाठी ने आगे कहा कि ‘ सुबह से लेकर देर‌ रात तक काम करने के बाद भी मुझे गुंडा कहा? मंत्री स्वाति सिंह से मुझे ऐसी उम्मीद नहीं थी.  इससे दुखी हूं’. सरोजनीनगर के सम्पूर्ण समाधान दिवस के दौरान राज्य मंत्री का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद प्रशासनिक अधिकारी भी खुश नहीं है,  इस मामले पर मंत्री स्वाती सिंह से काॅन्टैक्ट करने के काफी कोशिस की गई लेकिन उनका फोन बंद बता रहा.  नम्बरों पर मैसेज भेजकर भी जानने का प्रयास किया लेकिन कुछ पता नहीं लगा.  

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें