UP में होगा वर्चुअल ट्रेड फेयर, प्रदेश के उत्पादों को मिलेंगे दुनियाभर के खरीदार

Smart News Team, Last updated: Wed, 10th Mar 2021, 9:34 AM IST
  • उत्तर प्रदेश में बन रहे उत्पादकों के लिए निर्यात के नए रास्ते खोलने के लिए पंद्रह दिन के ट्रेड फेयर का आयोजन किया है. यह वर्चुअल ट्रेड फेयर तीन चरणों में होगा. इसका उद्घाटन मंगलवार को एमएसएमई एवं निर्यात प्रोत्साहन मंत्री सिद्धार्थनाथ स‍िंह ने किया गया.
UP में होगा वर्चुअल ट्रेड फेयर, प्रदेश के उत्पादों को मिलेंगे दुनियाभर के खरीदार

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में बन रहे उत्पादों की ब्रांड‍िंग के लिए सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम यानी एमएसएमई विभाग ने एक बड़ा मंच तैयार किया है ताकि देश-दुनिया से आने वाले खरीददार यूपी में बने उत्पादों को खरीद सकें. एमएसएमई विभाग ने निर्यात के नए रास्ते खोलने के लिए पंद्रह दिन के ट्रेड फेयर का आयोजन किया है. यह वर्चुअल ट्रेड फेयर तीन चरणों में होगा. इसका औपचारिक उद्घाटन मंगलवार को एमएसएमई एवं निर्यात प्रोत्साहन मंत्री सिद्धार्थनाथ स‍िंह के द्वारा किया गया.

एमएसएमई मंत्री ने खादी भवन में आयोजित समारोह में संबोधित करते हुए कहा कि इस वर्चुअल ट्रेड फेयर से प्रदेश में तैयार हो रहे उत्पादकों और निर्यातकों को राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय खरीददारों के सामने अपनी कला व उत्पादों को प्रदर्शित करने का मौका मिलेगा. भारत के निर्यात क्षेत्र में उत्तर प्रदेश महत्वपूर्ण स्थान रखता है और भारत के कुल निर्यात में प्रदेश की 4.55 फीसद सहभागिता रहती है.

अब गोदाम से सीधा दुकानों पर जाएगा अनाज,कालाबाजारी रोकने की तैयारी में योगी सरकार

एमएसएमई एवं निर्यात प्रोत्साहन मंत्री सिद्धार्थनाथ स‍िंंह ने कहा कि यूपी में पिछले तीन वर्षों में 38 फीसद वृद्धि के साथ निर्यात 84 हजार करोड़ रुपये से बढ़कर 1.20 लाख करोड़ रुपये का हो गया. अगले तीन वर्ष में इसे तीन लाख करोड़ रुपये तक पहुंचाने का लक्ष्य है. एमएसएमई के अपर मुख्य सचिव डॉ. नवनीत सहगल ने इस अनोखे वर्चुअल ट्रेड फेयर के बारे में बताते हुए कहा कि यह ट्रेड फेयर मुख्य रूप से तीन श्रेणियों के उत्पादों के लिए आयोजित किया जा रहा है.

होली पर जमकर छलकेंगे जाम, यूपी में चार गुना ज्यादा बिक सकती है शराब

उन्होंने आगे कहा कि 12 मार्च तक पहले चरण में टेक्सटाइल और सिले हुई वस्त्र,15 मार्च से 19 मार्च तक दूसरे चरण में कालीन, दरी, चर्म उत्पाद और जूते-चप्पल, जबकि 22 मार्च से 26 मार्च तक प्रस्तावित तीसरे चरण में घरेलू एवं सौंदर्य प्रसाधन से जुड़े उत्पाद प्रदर्शित किए जाएंगे. प्रत्येक चरण में सौ से अधिक निर्यातक भाग लेंगे. साथ ही देश-विदेश के 300 से अधिक खरीददारों को ऑन बोर्ड किया गया है. इसके अलावा बी2बी और बी2सी संवाद भी होंगे.

योगी सरकार अवैध कॉलोनी बनाने वाले बिल्डरों पर कसेगी शिकंजा, कार्रवाई के निर्देश

इस कार्यक्रम के दौरान कई जिलों के विभिन्न हस्तशिल्पियों और निर्यातकों से भी बातचीत की गई. इस कार्यक्रम में इंडियन एथनिक उत्पादन से जुड़ीं वारणसी की अंगिका, गौतमबुद्धनगर से वेस्टर्न अपैरल उत्पाद क्षेत्र की सौन्या मलिक, ल्यालापुर यूनिफार्म के प्रबंध निदेशक केडी छुग, मैकसेम की निदेशक शैल्या लाल, लखनऊ के वीरसन की संस्थापक आकर्षि जैन, बाराबंकी के यश इंटरप्राइजेज की संस्थापक इशिता अग्रवाल, त्रिवेणी चिकन आर्ट लखनऊ के संस्थापक नितीश अग्रवाल और कानपुर से अल्ट्राब्लेज के प्रबंध निदेशक आचार्या ने अपने सुझाव रखे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें