वसीम रिजवी ने हिंदू धर्म स्वीकारने से पहले लिख दी अपनी वसीयत, ये बताई अपनी अंतिम इच्छा

Shubham Bajpai, Last updated: Mon, 6th Dec 2021, 1:22 PM IST
  • शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष रह चुके वसीम रिजवी ने हिंदू धर्म स्वीकार लिया. उन्होंने इस दौरान एक वीडियो जारी कर बताया कि उन्होंने धर्म परिवर्तन से पहले ही अपनी वसीयत लिख चुके हैं. वसीयत में उन्होंने ऐलान किया है कि उनका अंतिम संस्कार किया जाए और उनकी चिता में अग्नि यति नरसिम्हा सरस्वती देंगे.
वसीम रिजवी ने हिंदू धर्म स्वीकारने से पहले लिख दी अपनी वसीयत, ये बताई अपनी अंतिम इच्छा

लखनऊ. शिया सेंट्रल बोर्ड के अध्यक्ष रह चुके वसीम रिजवी ने सोमवार को इस्लाम धर्म छोड़ दिया. उन्होंने यति नरसिंहानंद सरस्वती की मौजूदगी में सनातन धर्म स्वीकार लिया है. उनका नाम परिवर्तन होकर अब हरबीर सिंग त्यागी हो गया है. इससे पहले उन्होंने अपनी वसीयत लिख दी है. जिसको लेकर उन्होंने बताया कि मेरे मरने के बाद उनका अंतिम संस्कार कर दिया जाए. साथ ही उनकी चिता में अग्नि यति नरसिंहानंद सरस्वती देंगे. उन्होंने इसके लिए नरसिंहानंद को अधिकृत किया है. इस दौरान मुसलमानों पर आरोप लगाते हुए कहा कि उनकी हत्या और गर्दन काटने की साजिश कर रहे हैं.

मेरे हिंदू दोस्तों को सौंपा जाए मेरा शरीर

सनातन धर्म स्वीकार करने के बाद मीडिया से बात करते हुए उन्होंने अपने वसीयत को लेकर चर्चा करते हुए बताया कि अपनी वसीयत पहले ही तैयार कर ली है. जिसमें लिखा है कि मेरे मरने के बाद मेरे शरीर को मेरे हिंदू दोस्तों को सौंप दिया जाए और उसका अंतिम संस्कार किया जाए. मेरे चिता को अग्नि डासना मंदिर के महंत नरसिंहानंद सरस्वती देंगे.

बिन फेरे हम तेरे... कर्मचारी की फर्जी पत्नी बन लिया भुगतान, लिपिक निलंबित

मरने के बाद बनी रहे शांति इसलिए लिखी दी वसीयत

शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी ने बतााय कि उन्होंने वसीयत इसलिए लिख दी ताकि उनके मरने के बाद शांति व्यवस्था बनी रहे, इसलिए मैंने लिखित में कह दिया कि मेरे मरने के बाद मेरे शरीर को मेरे हिंदू दोस्त हैं लखनऊ में उनको दे दिया जाए ताकि उसका अंतिम संस्कार कर दिया जाए. 

मुसलमान रच रहे मेरी हत्या की साजिश

मुसलमानों पर आरोप लगाते हुए वसीम रिजवी ने कहा मुस्लिम मेरी हत्या करने की साजिश रच रहे हैं. मेरी हत्या और गर्दन काटने के लिए इनाम देने तक की बात कही गई है. ये साजिश हिंदुस्तान और हिंदुस्तान के बाहर की जा रही है.

बाबासाहेब आंबेडकर पुण्यतिथि पर मायावती का BJP और SP हमला, - सत्ता परिवर्तन से ही बचेगा संविधान

कुरान की आयातों को सुप्रीम कोर्ट में दे चुके हैं चुनौती

वसीम रिजवी तब सुर्खियों में आए, जब इन्होंने कुरान की 26 आयातों को ये कहते हुए सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दे दी कि ये इंसानियत के प्रति नफरत फैलाती है. हालांकि इसको सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया था. तब से वसीम लगातार मुस्लिम संगठनों के निशाने पर हैं और कई बार इनकी गिरफ्तारी की भई मांग हो चुकी है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें