वरुण गांधी का CM योगी पर हमला, कहा- जनता को सबकुछ खुद ही करना तो सरकार की क्या जरूरत?

Atul Gupta, Last updated: Thu, 21st Oct 2021, 7:48 PM IST
  • बीजेपी सांसद वरुण गांधी ने यूपी की योगी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि बाढ़ पीड़ितों तक समय से मदद नहीं पहुंच रही है. उन्होंने कहा कि अगर जनता को खुद ही अपनी मदद करनी है तो फिर सरकार की क्या जरूरत है?
वरुण गांधी का सीएम योगी पर निशाना (फाइल फोटो)

लखनऊ: बीजेपी सांसद वरुण गांधी अपनी ही पार्टी के खिलाफ लगातार आक्रामक रुख अख्तियार किए हुए हैं. कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों की बात सुनने की अपील करने वाले वरुण गांधी ने इस बार बाढ़ पीड़ितों को लेकर योगी सरकार को कटघरे में खड़ा कर दिया है. वरुण ने कहा कि लखीमपुर सहित तराई वाले पूरे इलाके में बाढ़ आई हुई है. भारी बारिश की वजह से लोगों के घर-मकान, खेत-खलिहान सब डूब गए हैं. लोगों के पास सिर छुपाने तक की जगह नहीं बची है. लोग सरकार और स्वमंसेवी संस्था के भरोसे हैं, ऐसे में लोगों को सरकार की तरफ से कोई मदद नहीं मिल रही है.

पीलीभीत से सांसद वरुण गांधी ने कहा कि आपदा के समय भी सरकार लोगों के काम नहीं आ सकती तो ऐसे में किसी को सरकार की क्या जरूरत है? वरुण गांधी ने कहा कि ये देखकर बहुत कष्ट हो रहा है कि लोगों को समय पर सरकार की तरफ से सहायता नहीं मिल रही है. वरुण ने आगे कहा कि ऐसे समय पर भी अगर लोगों को खुद ही अपनी मदद करनी है तो फिर सरकार की क्या जरूरत है. इससे पहले वरुण किसानों के पक्ष में और गन्ना समर्थन मूल्य बढ़ाने की मांग कर चुके हैं. यही नहीं वरुण गांधी कृषि कानूनों को लेकर प्रदर्शन कर रहे किसानों की बात सुनने की भी अपील कर चुके हैं.

भाजपा सांसद वरुण गांधी का आरोप, लखीमपुर खीरी की हिंसा को हिंदू बनाम सिख लड़ाई के तौर पर किया जा रहा पेश

वरुण गांधी के इस बयान के सियासी अर्थ भी निकाले जा रहे हैं, खास तौर पर तब जब यूपी में अगले साल विधानसभा चुनाव होना है. ऐसे में अपनी ही पार्टी के सांसद से अपनी सरकार के खिलाफ लगातार हो रही बयानबाजी को सीएम योगी आदित्यनाथ कितना सहन कर पाएंगे या विपक्ष वरुण गांधी के बयान की आड़ में सत्ताधारी पार्टी पर कितने निशाने लगाएगा ये देखने वाली बात होगी. लेकिन इतना जरूर कहा जा सकता है कि योगी सरकार के खिलाफ वरुण गांधी के ये तेवर आने वाले दिनों में बीजेपी के लिए मुश्किल खड़ी कर सकते हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें