सरकारी नौकरी का झांसा देकर हड़पे लाखों रुपए, महिला ने उठाया ये खतरनाक कदम

Smart News Team, Last updated: 08/09/2020 09:24 AM IST
  • लखनऊ के इंदिरानगर में 32 वर्षीय महिला ने सुसाइड कर लिया. महिला के कमरे से पुलिस को सुसाइड नोट बरामद हुआ जिसमें रियल एस्टेट कारोबारी और उसके दोस्त पर सरकारी नौकरी का झांसा देकर लाखों रुपए हड़पने का आरोप है.
लखनऊ की इंदिरानगर निवासी ने सुसाइड किया.

लखनऊ. इंदिरानगर निवासी महिला ने दबाव में आकर सोमवार को सुसाइड कर लिया. पुलिस को 32 वर्षीय ममता के कमरे से उसके हाथ से लिखा सुसाइड नोट मिला है. जिसमें ममता ने अपनी मौत का जिम्मेदार रियल एस्टेट कारोबारी नीलेश और कृष्णा यादव पर सरकारी नौकरी का झांसा देकर पैसे हड़पने का आरोप लगाया है. सुसाइड नोट के आधार पर आरोपियों पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है.

इंदिरानगर के निवासी मिठाई लाल एचएएल से रिटायर हैं. उन्होनें पुलिस को बताया कि ममता मुंशीपुलिया स्थित नीलेश इंटरप्राइजेज में नौकरी करती थी. मालिक नीलेश ने नेताओं से करीबी संबंध होने का दावा किया था जिसमें उसने बताया कि नगर-निगम में सफाई कर्मियों की भर्ती होने है और वह अपनी सरकारी पैठ से उसकी मदद कर सकता है. साथ ही नीलेश ने कहा कि इसके लिए प्रति व्यक्ति पांच लाख रुपए खर्च होंगे.

ममता ने यह बात अपने रिश्तेदारों में बता दी जिसके बाद पांच लोग तैयार हो गए. पिता मिठाई लाल के अनुसार ममता को पांच रिश्तेदारों ने 25 लाख रुपए और शैक्षिक दस्तावेज दे दिए. करीब एक साल तक आरोपी ममता को टालता रहा और वहीं रिश्तेदार भी ममता पर रुपए लौटाने के लिए दबाव बनाने लगे. 

महिलाएं हुईं साइबर क्राइम की शिकार! फर्जी फेसबुक आईडी बनी, हुए अश्लील कमेंट

गाजीपुर के इंस्पेक्टर बृजेश सिंह के बताया कि ममता के कमरे में एक सुसाइड नोट मिला है जिसमें युवती ने नीलेश और कृष्णा यादव पर 25 लाख हड़पने का आरोप लगाया है. इसी नोट में भाई देवेंद्र और बहन के पति दीप चंद्र को ठेका दिलाने के लिए 65 लाख रुपए धोखाधड़ी का भी आरोप लगाया गया है.  

लखनऊ: BJP कार्यकर्ता के प्लॉट पर कब्जा, 5 लाख की रंगदारी मांगी, केस दर्ज

ममता के भाई देवेंद्र ने बताया कि नीलेश ने ही उसकी मुलाकात कृष्णा यादव से कराई थी जिसमें यह बताया गया कि कृष्णा को केंद्र सरकार से वॉटर सैंप्लिंग का ठेका मिला है जिसमें एक सैंपल के लिए 100 रुपए मिलेंगे. इसके लिए भाई देवेंद्र और बहनोई ने सैंप्ल जमा करने शुरू कर दिए.

आरोपियों ने भाई को भी फंसाने के लिए साजिश के मुताबिक 80 हजार दिए जिसके बाद उन्होनें 65 लाख के सैंपल जमा कर नीलेश और कृष्णा को दिए थे लेकिन आरोपियों ने इसका कोई भुगतान नहीं किया. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें