योगी आदित्यनाथ ने लिया सीएचसी गोद, लग रहा ऑक्सीजन प्लांट

Smart News Team, Last updated: Wed, 9th Jun 2021, 3:25 PM IST
  • मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के वाराणसी और गोरखपुर में सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र को गोद लेते ही प्रदेश का पुरा अमला स्वास्थ्य केन्द्र का कायाकल्प करने में लग गया है. इन स्वास्थ्य केन्द्रों में ऑक्सीजन प्लांट भी लगाए जा रहें हैं.
योगी आदित्यनाथ ने लिया सीएचसी गोद, लग रहा ऑक्सीजन प्लांट

लखनऊ. कोविड-19 की दूसरी लहर लगभग अब अपने अंतिम चरण में है. कोरोना संक्रमितों का ग्राफ लगातार गिरता जा रहा है. इसी बीच उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों को गोद लिया है. मुख्यमंत्री द्वारा गोद लिए गए सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में वाराणसी और गोरखपुर के 1-1 सीएचसी शामिल हैं. वहीं पर गोरखपुर में 2 सीएचसी को गोद लिया गया है.

 वाराणसी के सेवापुरी ब्लॉक के हाथी बाजार में स्थित सीएचसी को मुख्य्मंत्री द्धारा गोद लिए जानें के बाद सरकारी अमला इसके कायाकल्प में तेजी से जुट गए हैं. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा  इस अस्पताल को गोद लेने के बाद  10 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर भी दिए गए हैं. वहीं सेवापुरी ब्लॉक के लोगों में वहां के सीएचसी को गोद लिए जाने के बाद खुशी की लहर है. इसके साथ ही गोरखपुर के जंगल कौड़िया और चरगावां सीएचसी को भी योगी आदित्यनाथ ने गोद लिया है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पिछले दिनों प्रदेश के जनप्रतिनिधियों से प्रदेश के अस्पतलों को गोद लेने की अपील की थी. ताकि प्रदेश के अस्पतलों की स्थिति में सुधार हो सके.

कांग्रेस छोड़ जितिन प्रसाद BJP में हुए शामिल, जानें कैसा रहा राजनैतिक सफर

उन्होंने बताया कि किसी भी सीएचसी में आमतौर पर 30 बेड होते हैं. लेकिन सेवापुरी ब्लॉक में 15 से 20 बेड ही हैं. जिसे बढ़ाने का काम शूरू हो गया है. साथ ही यहां ऑक्सीजन प्लांट लगाने की भी तैयारी चल रही है. अधिकारियों ने जानकारी देते हुए बताया कि अस्पताल में डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ भी बढ़ाया जाएगा. जिसके लिए जल्द ही विज्ञापन जारी किया जाएगा. उन्होंने आगे जानकारी देते हुए बताया कि अगर कोरोना की तीसरी लहर आती है तो बच्चों का भी इलाज इस हॉस्पिटल में किया जा सकेगा. इसके साथ ही यहां लेवल-2 के दो बेड उपल्ब्ध होगें. हाथी बाजार सीएचसी में सुविधाएं बढ़ने के साथ ही यह फर्स्ट रेफरल यूनिट (एफआरयू) हो जाएगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें