यूपी की ब्यूरोक्रेसी में बड़े बदलाव की तैयारी में योगी सरकार, मंथन शुरू

Smart News Team, Last updated: Wed, 27th Jan 2021, 8:57 PM IST
  • यूपी की नौकरशाही में बहुत जल्द बड़ा फेरबदल होने की संभावना है. इसमें कई अफसरों को नई जिम्मेदारी मिल सकती हैं और खराब परफार्मेंस वाले जिलाधिकारियों को हटाया जा सकता है. यूपी नौकरशाही में बदलाव को लेकर मंथन भी शुरू हो गया है.
यूपी की ब्यूरोक्रेसी में बड़े बदलाव की तैयारी में योगी सरकार, मंथन शुरू

लखनऊ. उत्तर प्रदेश की ब्यूरोक्रेसी में जल्द बड़े बदलाव की संभावना है. इसके लिए मंथन भी शुरू हो गया है. मिली जानकारी के अनुसार, नौकरशाही में बदलाव के तहत प्रदेश के जिलों से लेकर सचिवालय के तहत आईएएस अफसरों का तबादला किया जा सकता है. अपर मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव और सचिव स्तर की तैनातियों में फेरबदल किया जा सकता है.

मिली जानकारी के मुताबिक, दोहरा प्रभार संभालने वाले अधिकारियों में कुछ के प्रभार लेकर दूसरे अफसरों को जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है. इसके अलावा खराब परफार्मेंस वाले डीएम और मंडलायुक्ता को भी हटाने की संभावना जताई जा रही है. इसके लिए मंडलीय नोडल अधिकारियों की रिपोर्ट को आधार बनाया जाएगा. जिलों में ईमानदार और योग्य अफसरों को तैनाती दी जाएगी.

राज्यपाल आनंदी बेन पटेल के पहल पर शासन ने 54 कैदीयों को रिहा करने का आदेश दिया

आपको बता दें कि औद्योगिक विकास आयुक्त आलोक टंडन को केन्द्र में तैनात कर दिया गया है. अपनी जिम्मेदारी संभालते ही यूपी में औद्योगिक विकास आयुक्त का पद खाली हो चुका है. आलोक टंडन 1986 बैच के आईएएस अफसर हैं.औद्योगिक विकास आयुक्त का पद काफी महत्वपूर्ण माना जाता है. इस वजह से आलोक टंडन के बाद इसकी जिम्मेदारी किसी वरिष्ठ आईएएस अधिकारी को दी जाएगी.

UP पंचायत चुनाव: सभी उम्मीदवार नियमों का रखें पूरा ध्यान, पढ़ें EC की नई गाइडलाइन

औद्योगिक विकास आयुक्त के लिए 1986 आईएएस बैच में से पांच नामों पर चर्चा है. इसके अलावा भी कई अधिकारिय इस पद के दावेदार हैं. इनमें से जिसको भी औद्योगिक विकास आयुक्त की जिम्मेदारी दी जाएगी. जिसके बाद उसके पद पर तैनाती की जाएगी. मिली जानकारी के अनुसार, अपर मुख्य सचिव बेसिक और राजस्व रेणुका कुमार और प्रमुख सचिव पशुधप भुनेशन कुमार को भी केन्द्र में तैनाती मिल सकती है. जिसके बाद इन पदों को भी भरा जाएगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें