योगी सरकार इन अफसरों का जल्द कर सकती है तबादला, ये है वजह

Smart News Team, Last updated: Thu, 8th Jul 2021, 6:27 PM IST
  • ब्लॉक प्रमुख चुनाव से पहले योगी सरकार एक ही जगह पर कई सालों से जमे अफसरों को लेकर सख्त हो गई है. इसके अलावा अब तक कई अफसरों के एक जिले से दूसरे जिले में तबादले किए जा चुके हैं और कई अफसरों के तबादले होने वाले हैं.
योगी सरकार इन अफसरों का जल्द कर सकती है तबादला

ब्लॉक प्रमुख चुनाव से पहले योगी सरकार एक ही जगह पर कई सालों से जमे अफसरों को लेकर सख्त हो गई है. इसके अलावा अब तक कई अफसरों के एक जिले से दूसरे जिले में तबादले किए जा चुके हैं और कई अफसरों के तबादले होने वाले हैं. बताया जा रहा है कि अभी कई ऐसे अधिकारी बचे हैं जिनका तबादला होना है. तबादलों के सीजन में जहां तीन साल से ज्यादा समय से जिले में तैनात अधिकारियों पर तबादले की तलवार अब लटकी नजर आ रही है. 

वहीं सालों से एक ही ब्लॉक और ग्राम पंचायतों में जमे ग्राम विकास अधिकारियों, सेक्रेटरी और एडीओ पंचायतों का भी तबादला हो सकता है. इसके अलावा सामने आ रही जानकारी में बताया जा रहा है कि कौनसा अफसर किस ब्लॉक में कितने सालों से तैनात है उनकी पूरी सूची तैयार की जा रही है और जल्द ही इन सबका तबादला दूसरे ब्लॉकों में किया जा सकता है. साथ ही धौरहरा, निघासन सहित कई ब्लॉकों में कई ऐसे सेक्रेटरी ग्राम विकास अधिकारी हैं जो दस साल से भी ज्यादा समय से एक ही जगह पर तैनात हैं. 

लखनऊ में बनेंगे दो नए बिजली उपकेंद्र, बिजली व्यवस्था सुधारने पर जोर

राजनीतिक संरक्षण के चलते इनका तबादला नहीं हुआ. अब इन सबका तबादला हो सकता है. ग्राम विकास विभाग से गांवों में तैनात ग्राम विकास अधिकारी कई ऐसे हैं जो आठ से दस सालों से एक ही ब्लॉक में तैनात हैं. इसी तरह से पंचायत राज विभाग के ग्राम पंचायत अधिकारी भी कई सालों से एक ही ब्लॉक में तैनात हैं. इन सभी की सूची तैयार कराई गई है. पंचायत राज विभाग ने सेक्रेटरी का और जिला विकास अधिकारी कार्यालय ने ग्राम विकास अधिकारियों की पूरी सूची तैयार की है. 

इसकों लेकर बताया जाता है कि अपने राजनीतिक संरक्षण के चलते कई सालों से जमे ग्राम विकास और ग्राम पंचायत अधिकारियों का जल्द ही तबादला हो सकता है. इसके अलावा कई एडीओ भी ऐसे हैं एक ही ब्लॉक में कई सालों से तैनात हैं. उनका भी तबादला हो सकता है. 

बता दें कि जिले के तीन खंड शिक्षा अधिकारी ऐसे हैं जो तीन साल से ज्यादा समय से जिले में तैनात हैं. इन खंड शिक्षा अधिकारियों पर भी तबादले की तलवार लटकी है. सामने आ रही खबरों की माने तो इन तीनों से जिलों का विकल्प मांगा गया है. साथ ही विकल्प देने के बाद इनका तबादला हो सकता है. हालांकि अभी तबादला नहीं हुआ है.

कैबिनेट विस्तार और फेरबदल केंद्र की गलत नीतियों पर पर्दा नहीं डाल सकते : मायावती

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें