यूपी बोर्ड के छात्रों को सिखाया जाएगा स्पेनिश, फ्रेंच, जर्मन और शास्त्रीय भाषा

Smart News Team, Last updated: Sat, 30th Jan 2021, 1:03 PM IST
  • उत्तर प्रदेश की सरकार यूपी बोर्ड के विद्यार्थियों को शास्त्रीय और विदेशी भाषाओं को सीखने जा रही है. जिसके लिए योजनाए भी तैयार कर ली गई है.
यूपी बोर्ड के छात्रों को सिखाया जाएगा स्पेनिस, फ्रेंच, जर्मन और शास्त्रीय भाषा

लखनऊ. यूपी बोर्ड में जल्द ही विदेशी और अन्य राज्य भी भाषाएं सिखाई जाएगी. जिसके लिए उत्तर प्रदेश की सरकार ने अपनी तैयारियां भी शुरू कर दी है. इस नए योजना का प्रयोग यूपी बोर्ड शुरू में राजकीय इंटर कॉलेज में करेगा. जिसके तहत छात्रों को स्पेनिश, फ्रेंच या फिर जर्मन भाषा के साथ शास्त्रीय भाषाएं तमिल, कन्नड और तेलगु सिखाया जाएगा. इतना ही नही हर स्कूल में 6 से 12 तक का एक सेक्शन अंग्रेजी माध्यम का रखा जाएगा और नई भाषा के तहत त्रिभाषा को लागू किया जाएगा.

सरकार ये भाषाएं छात्रों को एक पार्ट टाइम टीचर रखकर करेगी. वहीं स्कूलों में न सिर्फ कन्नड, तेलगु, और तमिल ही नही बल्कि पंजाबी, बंगाली के अलावा अन्य भाषाएं भी सिखाई जाएगी, लेकिन प्राइमरी स्तर तक कि शिक्षा को मातृभाषा या स्थानीय भाषा में ही कराई जाएगी. इसके साथ ही प्रदेश के हर मंडल मुख्यालय के राजकीय विद्यालय के पुस्तकालयों में इन भाषाओं का साहित्य भी रखा जाएगा, जिसे विद्यार्थी पढ़ सके.

UP: डेढ़ लाख शिक्षामित्रों के लिए खुशखबरी, योगी सरकार सभी को देगी 20-20 हजार रुपए

आपको बता दे कि यूपी सरकार छात्रों को भारत की शास्त्रीय भाषाएं तमिल, संस्कृत, तेलगु, कन्नड, मलयालम और उड़िया सिखाया जाएगा, इसके साथ ही भारत की आधुनिक भाषाओं हिंदी, मराठी, गुजराती, बंगाली भी सिखाया जाएगा. उत्तर प्रदेश सरकार बोर्ड के परीक्षा पैर्टन का भी बदलाव करने जा रही है. जिसके तहत पतिक्षा में 30 अंको के वस्तुनिष्ठ प्रश्न किया जाएगा और इसे ओएमआर सीट पर लिया जाएगा. साथ ही विज्ञान और गृहविज्ञान में 50 फीसद तक प्रायोगिक गतिविधियों के प्रश्नों को पूछा जाएगा.

यूपी विधान परिषद सभापति चुनाव पर अखिलेश यादव की नजर, सपा सबसे बड़ी पार्टी

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें