UP Muharram Guideline: मुहर्रम पर ना ताजिया ना जुलूस, योगी सरकार की गाइडलाइन पढ़ें

Smart News Team, Last updated: Sun, 1st Aug 2021, 8:17 PM IST
  • उत्तर प्रदेश में मुहर्रम को लेकर प्रदेश के डीजीपी मुकुल गोयल ने गाइडलाइन जारी कर दी हैं. प्रदेश में कोविड को देखते हुए यह फैसला लिया गया है कि इस बार में मुहर्रम जुलूस की अनुमति नहीं होगी.
यूपी में मुहर्रम पर नहीं निकलेगा जुलूस, योगी सरकार की गाइडलाइन पढ़ें

लखनऊ. उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से मुहर्रम के लिए प्रदेश के डीजीपी मुकुल गोयल ने गाइडलाइन जारी कर दी हैं. इस गाइडलाइन के अनुसार 19 अगस्त को प्रशासन ने किसी भी तरीके का जुलूस निकालने पर पाबंदी लगाई है. इसके साथ ही मुहर्रम के लिए धर्मगुरुओं से संवाद कर कोविड-19 के दिशा निर्देशों का भी ध्यान रखने को कहा गया है. इस मामले में डीजीपी ने पुलिस अधीक्षकों को साफ आदेश दिया है कि सभी महत्वपूर्ण स्थलों की चेकिंग करें और बीट स्तर पर हालातों का जायजा लेकर व्यवस्था बनाएं.

मुहर्रम मुस्लिम समुदाय के लिए बेहद खास है. मुहर्रम का पर्व हजरत इमाम हुसैन की शहादत की याद में मनाया जाता है. हजरत इमाम हुसैन कर्बला की जंग में शहीद हुए थे. इमाम हुसैन, पैगंबर मोहम्मद के नाती थे और दुनियाभर में शिया मुस्लिम मुहर्रम मनाते हैं. मोहर्रम को लेकर प्रदेश के कई थानों में शांति समिति की बैठक भी हुई. इस बैठक में थानाध्यक्ष ने मुस्लिम सुमदाय से कोविड गाइडलाइन का पालन कर अपना कार्यक्रम करने की अपील की है. इसके साथ ही फैसला यह भी लिया गया है कि कर्बला में मेला भी नहीं लगेगा, इसके लिए दो-तीन की लोग ही ताजिया की मिट्टी ले जाकर कर्बला में ठंडा करेंगे.

हालांकि इस समय उत्तर प्रदेश में कोरोना के मरीजों की संख्या कम है लेकिन फिर भी प्रदेश सरकार सतर्कता बरत रही है. प्रदेश के कई जिले ऐसे हैं जिसमें कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या एक भी नहीं हैं. इन जिलों में अलीगढ़, अमरोहा, हाथरस, एटा, फर्रुखाबाद, कासगंज, कौशाम्बी, महोबा, प्रतापगढ़ और श्रावस्ती हैं.

राम मंदिर अयोध्या: बुनियाद भरने का काम 50 फीसदी पूरा, अक्टूबर से होगा बेस निर्माण

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें