यूपी विधानसभा का सत्र आज से, जनता के मुद्दों पर सरकार के घेरने के लिए विपक्ष एकजुट

Smart News Team, Last updated: Tue, 17th Aug 2021, 9:38 AM IST
  • उत्तर प्रदेश में विधानसभा का मॉनसून सत्र आज 17 अगस्त से शुरू हो रहा है. इस सत्र के लिए विधानसभा में विपक्ष के नेता योगी सरकार को घेरने की कोशिश करेगें, विपक्ष किसानों के मुद्दे पर और महंगाई के मुद्दे पर सरकार को घेरने की कोशिश करेगा.
यूपी विधानसभा का सत्र आज से शुरू, योगी सरकार को घेरने के लिए विपक्ष एकजुट फोटो क्रेडिट (फाइल फोटो)

लखनऊ. उत्तर प्रदेश विधानसभा का मानसून सत्र आज 17 अगस्त मंगलवार से शुरू हो रहा है. कोरोना के कारण विधानसभा के मानसून सत्र की एक सप्ताह चलने की ही संभावना, जो 17 अगस्त से 24 अगस्त तक चल सकता है. हालंकि इस कम समय में भी विपक्ष ने योगी सरकार को घेरने की तैयारी कर ली है. विपक्ष यूपी विधानसभा के मॉनसून सत्र में प्रदेश में कानून व्यवस्था के मुद्दे, किसानों के मुद्दे पर और महंगाई के मुद्दे पर सरकार को घेरने की कोशिश करेगा. योगी सरकार इस सत्र के दौरान सदन में इस वित्तीय वर्ष का पहला अनुपूरक बजट भी पेश करेगी. इसके साथ सरकार ने विपक्ष के हमले का जवाब देने की पूरी तैयारी कर ली है.

यूपी मानसून सत्र में इस बार हंगामे होने के आसार दिख रहे हैं. इस विधानसभा सत्र के लिए विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित ने विधानसभा सभा की तारीख 17 अगस्त 2021 से 24 अगस्त, 2021 तक का प्रस्तावित संशोधित कार्यक्रम स्वीकृत कर दिया था. इसके साथ ही विधानसभा अध्यक्ष ने सभी दलीय नेताओं से अनुरोध किया कि वे अपना-अपना पक्ष सदन में शालीनता एवं संसदीय मर्यादाओं के अन्तर्गत रखें. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि विगत सत्र के समय कोरोना की लहर से देश दुनिया व्यथित थी और माननीय मुख्यमंत्री जी के मार्गदर्शन में विकट कोरोना के समय भी सदन चलाया गया.

शहरों में शामिल गांवों को योगी सरकार से राहत, विकास होने तक नहीं देना होगा टैक्स

यूपी विधानसभा सत्र से पहले एक सर्वदलीय बैठक हुई थी. इस बैठक में बताया गया था कि विधानसभा मानूसन सत्र कवरेज की व्यवस्था पूर्व की भांति तिलक हाल एवं प्रेस रूम से होगी. इसके साथ ही इस बैठक में विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित ने कहा था कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करते हुए विधान मण्डल की कार्यवाही को सकुशल सम्पन्न कर सके, इसमें विभिन्न राजनैतिक दलों की भूमिका और दलीय नेताओं का समर्थन अपेक्षित है और सरकार हर एक मद पर चर्चा कराने को तैयार है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें