योगी सरकार के मंत्री का दावा- ISI के इशारे पर जिन्ना का गुणगान कर रहे अखिलेश

Ankul Kaushik, Last updated: Wed, 3rd Nov 2021, 5:28 PM IST
  • उत्तर प्रदेश की योगी सरकार के मंत्री आनंद स्वरूप शुक्ला ने कहा है कि सपा प्रमुख अखिलेश यादव आईएसआई के इशारे पर जिन्ना का गुणगान कर रहे हैं. इसके साथ ही यूपी सरकार के मंत्री ने कहा है कि पाकिस्तान की एजेंसी आईएसआई से उन्हें आर्थिक मदद और संरक्षण मिल रहा है.
अखिलेश यादव पर ISI के इशारे पर जिन्ना का महिमामंडन कर रहे हैं

लखनऊ. उत्तर प्रदेश की योगी सरकार के संसदीय कार्य राज्य मंत्री आनंद स्वरूप शुक्ला ने समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव को लेकर एक विवादित बयान दिया है. योगी सरकार के मंत्री आनंद स्वरूप शुक्ला ने कहा है कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के इशारे पर मोहम्मद अली जिन्ना का गुणगान कर रहे हैं. इसके साथ ही यूपी के मंत्री ने दावा किया है कि यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को आईएसआई से संरक्षण मिल रहा है और इसके साथ ही उन्हें इस संगठन से आर्थिक मदद भी मिल रही हो. आनंद स्वरूप शुक्ला ने कहा है कि अखिलेश यादव वही कहते हैं तो पाकिस्तान और तालिबान चाहता है. उनके इन बयानों से ऐसा साफ लग रहा है कि उन्हें आईएसआई से आर्थिक मदद भी मिल रही है.

बीजेपी मंत्री ने कहा कि भारत के पहले गृहमंत्री वल्लभभाई पटेल की जिन्ना से तुलना करना निंदनीय है अखिलेश यादव को अपने इस बयान के लिए माफी मांगनी चाहिए. इससे पहले आनंद स्वरूप शुक्ला ने सुहेलदेव भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर पर भी आतंकवादी संगठने से जुड़े होने का आरोप लगा चुके हैं.

अखिलेश यादव ने की घोषणा- बोले खुद नहीं लड़ेंगे यूपी विधानसभा चुनाव 2022

बता दें कि रविवार को अखिलेश यादव ने हरदोई में 146वीं सरदार वल्लभभाई पटेल की जयंती के अवसर पर जिन्ना को लेकर एक बयान दिया था. अखिलेश यादव ने कहा था कि सरदार पटेल, राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, जवाहरलाल नेहरू और जिन्ना ने एक ही संस्थान से पढ़ाई की और बैरिस्टर बने. भारत को आजादी दिलाने में मदद की और संघर्ष से कभी पीछे नहीं हटे. अखिलेश के इस बयान को लेकर विपक्षी पार्टियों ने खूब निशाना साधा था. अखिलेश के इस बयान पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि जिन्ना की तुलना सरदार वल्लभभाई पटेल से तुलना करना शर्मानक है. अखिलेश को अपने इस बयान को लेकर माफी मांगनी चाहिए. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें