योगी सरकार का बड़ा फैसला, जमीनी घोटाले में 3 SDM डिमोट, तहसीलदार बनाया

Smart News Team, Last updated: Sun, 6th Jun 2021, 11:26 AM IST
जमीन के घोटाले को लेकर दोषी पाए गए. तीनो एसडीएम को डिमोट करते हुए तहसीलदार बनाया गया है. यह तीनों एसडीएम प्रयागराज, मुरादाबाद और श्रावस्ती के है.
तीन एसडीएम पर जमीन धांधली के मामले का दोषी पाया गया है. (फाइल फोटो)

लखनऊ : नियुक्ति एवं कार्मिक विभाग की ओर से शनिवार को जारी एक आदेश में तीन सब डिविजनल मजिस्ट्रेट (एसडीएम) को तहसीलदार पद पर डिमोट कर दिया गया है. इन तीनों एसडीएम पर जमीन के मामले में नियम को ताक पर रखकर मनमाने तरीके से गलत फैसला लेने का दोषी पाया गया है. तीनों अधिकारियों को तहसीलदार बनाने के बाद राजस्व परिषद से जोड़ दिया गया है.

तीनों एसडीएम पर जमीन के संबंध में धांधली करने का दोषी पाया गया है. श्रावस्ती के एसडीएम जेपी चौहान पर आरोप है, कि वे पीलीभीत में तहसीलदार पद का गलत फायदा उठाते हुए महंगी जमीन की कीमत को कम आंका था. वही मुरादाबाद के एसडीएम अजय कुमार पर आरोप है कि वे ग्रेटर नोएडा की जमीन को किसी पावरफुल आदमी को देने के लिए अधिग्रहण की गई. जमीन को मनमाने तरीके से छोड़ दिया था.

सीएम योगी का निर्देश- कॉलेजों और यूनिवर्सिटी की परीक्षा को लेकर जल्द हो फैसला

जिस मामले में अजय कुमार को दोषी पाया गया है. प्रयागराज के एसडीएम रामजीत मौर्य जब तहसीलदार के पद पर नियुक्त थे. तब उन्होंने नियम को न मानते हुए. करोड़ों की जमीन पर मनमाने ढंग से फैसला लिया. फिलहाल जांच में तीनों एसडीएम को दोषी पाया गया. इस वह से एसडीएम को तहसीलदार बना दिया गया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें