योगी सरकार ने की महिलाओं, बुजुर्गों व दिव्यांगजनो की पेंशन दोगुनी, ऐसे करें आवेदन

Mithilesh Kumar Patel, Last updated: Fri, 17th Dec 2021, 3:33 PM IST
  • मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विधवा महिलाओं, वृद्धजनों व दिव्यांगजनों की पेंशन दोगुनी कर दी है. कुष्ठरोगियों के पेंशन में 500 रुपये की बढ़ोत्तरी करने के साथ असंगठित क्षेत्र के करीब ढ़ाई करोड़ मजदूरों और करीब 60 लाख पंजीकृत मजदूरों को दिसंबर महीने से मार्च तक 500 रुपये प्रति माह देने का ऐलान भी किया है.
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सूबे के निराश्रित यानी विधवा महिलाओं, वृद्धजनों और दिव्यांगजनो की पेंशन राशि दोगुनी कर दिया है. इसके आलावा कुष्ठरोगियों को मिलने वाली पेंशन में 5 सौ रुपये और भी बढ़ा दिया है. इसके साथ ही असंगठित क्षेत्र के करीब ढाई करोड़ मजदूरों और करीब 60 लाख पंजीकृत मजदूरों को दिसंबर महीने से मार्च तक 500 रुपेय प्रति माह देने की ऐलान किया है. जिसके बाद अब वृद्धावस्था पेंशन, विधवा पेंशन, दिव्यांग पेंशन पाने वाले पंजीकृत व्यक्तियों को हर महीने पांच सौ की जगह एक हजार रुपए मिलेंगे. इसके अलावा कुष्ठावस्था पेंशनधारको 2500 की बजाय 3000 हर महीने मिलेगा. अगर आप भी इनमें से किसी पेंशन योजना का लाभ लेने की पात्रता पूरी कर चुके हैं तो ऐसे आनलाइन आवेदन कर योजना का लाभ ले सकते है.

यह दुगनी और कुछ एक योजना के लिए बढ़ाई गई पेंशन की रकम पहली दिसम्बर 2021 से लागू होगी. इंटरिम बजट पेश करने के दौरान मौजूदा सरकार की तरफ से कुष्ठ रोगियों को हर दी जाने वाली 2500 रुपये पेंशन में 500 रुपये की बढ़ोत्तरी करके 3000 रुपये मासिक कर दी गई है. प्रदेश के सभी कुष्ठ रोगियों को प्रधानमंत्री आवास योजना या मुख्यमंत्री आवास योजना से लाभाविंत करने की घोषणा की गई है. इसके आलावा गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाली महिलाओं को आयुष्मान भारत योजना के तहत मिले पांच लाख की राशि खर्च होने के बाद उन्हें अतिरिक्त राशि देने का ऐलान भी किया गया है.

यूपी के 11 लाख दिव्यांगजनों को पेंशन दी जाती है और करीब 13 हजार कुष्ठ रोगियों को यूपी सरकार द्वारा पेंशन का लाभ दिया जाता है. बता दें कि गुरुवार को अनुपूरक बजट (इंटरिम बजट) पेश करते समय यूपी सरकार ने समाज कल्याण व दिव्यांगजन कल्याण को 16700 करोड़ रुपए के बजट का प्रावधान किया है. समाज कल्याण विभाग के उप निदेशक जे.राम ने बताया कि उनके विभाग से करीब 56 लाख वृद्धजनों को और 29 लाख विधवाओं को पेंशन दी जाती है.

यूपी पेंशन योजना का पात्रता

आवेदक को इसी राज्य का स्थाई निवासी होना अनिवार्य है. आवेदन के लिए गरीबी रेखा से नीचे होना जरूरी है. गरीबी रेखा के लिए आवेदक के पास BPL कार्ड का होना जरूरी है. BPL कार्ड न होने की स्थिती में आय प्रमाण देना अनिवार्य होगा. इस पेंशन योजना का लाभ पिछड़े वर्ग से ताल्लुक रखने वाले यूपी के पात्र व्यक्ति उठा सकते हैं. सरकारी नौकरी कर रहे आवेदक इस आप पेंशन योजना के लिए आवेदन नहीं कर सकते हैं.

पेंशन योजना के लिए इन आवश्यक दस्तावेजों को अपने साथ रखें 

पेंशन योजना का लाभ लेने के लिए आवेदक के पास पहचान पत्र के लिए आधार कार्ड या वोटर कार्ड, जन्म प्रमाण पत्र,  BPL प्रमाण पत्र , विधवा पेंशन के लिए पति का मृत्यु का प्रमाण पत्र, दिव्यांग पेंशन के लिए विकलांगता का प्रमाण पत्र होना आवश्यक है. इसके आलावा बैंक खाता विवरण के लिए पासबुक, मोबाइल नंबर, पासपोर्ट साइज फोटो दस्तावेजों और विवरण को साझा करना होगा.

पेंशन योजना का लाभ पाने के लिए आवेदन करने की प्रक्रिया

वृद्धावस्था पेंशन योजना, निराश्रित महिला या विधवा पेंशन योजना, दिव्यांग पेंशन योजना और कुष्ठावस्था पेंशन योजना में से किसी योजना का लाभ पाने के लिए अर्ह व्यक्ति समस्त जरूरी मांगे गए दस्तावेज और फोटो के साथ एकीकृत सामाजिक पेंशन पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट https://sspy-up.gov.in/HindiPages/index_h.aspx पर विजिट करें. वेबसाइट पर चटका लगाते ही स्क्रीन सामने पेंशन पोर्टल का होम पेज सामने खुल जायेगा. अब अपनी पात्रता के हिसाब से अपने लिए पेंशन योजना पर क्लिक करें. क्लिक करते हीं सामने एक नया वेब पेज  आवेदन पत्र के रूप ऑनलाइन खुल जाएगा. जिसके बाद आवेदक सभी चरणो में मांगी गई हर एक जानकारी सही सही भरने और दस्तावेजों को अपलोड करके अंत में Submit बटन पर क्लिक कर रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया पूरी कर सकते हैं.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें