UP में जबरन धर्मांतरण रोकने वाले बिल को विधानमंडल से पास कराएगी योगी सरकार

Smart News Team, Last updated: Wed, 10th Feb 2021, 11:44 AM IST
  • योगी सरकार जल्द ही उत्तर प्रदेश विधि विरुद्ध धर्म परिवर्तन प्रतिषेध अध्यादेश-2020 को अब विधान मंडल से विधेयक के रूप में पास कराएगी.
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ.

लखनऊ: मंगलवार को सीएम योगी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक में उत्तर प्रदेश विधि विरुद्ध धर्म परिवर्तन प्रतिषेध विधेयक 2021 के मसौदे को मंजूरी दे दी गई. जिसके बाद उत्तर प्रदेश में योगी सरकार जल्द ही उत्तर प्रदेश विधि विरुद्ध धर्म परिवर्तन प्रतिषेध अध्यादेश-2020 को अब विधान मंडल से विधेयक के रूप में पास कराएगी. बता दें पिछले साल प्रदेश सरकार ने इसे अध्यादेश के रूप में लाकर लागू किया था.

आपको बता दें कि किसी अध्यादेश को छह माह में विधानमंडल की मंजूरी दिलाना आवश्यक है. जिसके चलते इसे विधानसभा व विधान परिषद से विधेयक के रूप में पास कराया जाएगा. वहीं राज्यपाल की मंजूरी के बाद इसे लागू कर दिया जाएगा. इसके तहत जबरन धर्मांतरण कराने वाले को अलग-अलग श्रेणी में एक साल से 10 साल तक सजा हो सकती है. धर्मांतरण कराने वाले को पांच लाख रुपये तक जुर्माना पीड़ित पक्ष को देना होगा.

योगी सरकार का बड़ा फैसला, यूपी में डिजिटल होंगे भू-अभिलेख

इसमें यह भी प्रावधान है कि जो अपनी इच्छा से धर्म परिवर्तन करना चाहता है उसे साठ दिन पहले डीएम या उनके द्वारा अधिकत किये गए एडीएम के यहां आवेदन करना पड़ेगा, अगर कोई दबाव बनाकर, लालच देकर या अपने प्रभाव का इस्तेमाल करके जिला प्रशासन को गलत सूचना देकर धर्म परिवर्तन करवा रहा होगा तो यह अवैध और शून्य हो जाएगा.

यूपी में दो डीएसपी और तीन कारागार अधीक्षकों के तबादले

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें