यूपी: भ्रष्टाचार के दो आरोपी IPS अफसरों के खिलाफ FIR, एंटी करप्शन एक्ट में केस

Smart News Team, Last updated: Thu, 24th Sep 2020, 12:04 AM IST
  • उत्तर प्रदेश में भ्रष्टाचार के आरोपी रहे आईपीएस अधिकारी अजयपाल शर्मा और आईपीएस हिमांशु कुमार के खिलाफ केस दर्ज किया गया है. विजिलेंस टीम ने दोनों पुलिस अधिकारियों के खिलाफ जांच के बाद एफआईआर दर्ज कराई है.
यूपी: भ्रष्टाचार के दो आरोपी IPS अफसरों के खिलाफ FIR, एंटी करप्शन एक्ट में केस

लखनऊ. भ्रष्ट अफसरों के खिलाफ योगी आदित्यनाथ सरकार की कार्रवाई लगातार जारी है. मंगलवार शाम भ्रष्टाचार के मामले में आईपीएस अधिकारी अजयपाल शर्मा और आईपीएस हिमांशु कुमार के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है. विजलेंस टीम ने जांच के बाद यह एफआईआर दर्ज कराई है. हालांकि, शासन की ओर से अभी तक दोनों अधिकारियों का निलंबन नहीं किया गया है. सूत्रों की मानें तो अधिकारियों के निलंबन को लेकर जल्द ही फैसला हो सकता है.

गौरतलब है कि दोनों अधिकारियों के खिलाफ जांच में विजिलेंस टीम को ट्रांसफर- पोस्टिंग मामले में पैसों के लेन- देन को लेकर सबूत मिले थे. इन्हीं सबूतों के आधार पर दोनों आईपीएस अफसरों पर ऐंटी करप्शन ऐक्ट की धाराओं में FIR दर्ज करवाई गई है.

कोरोना काल में लखनऊ के KGMU और PGI में अक्टूबर से शुरू होगी ओपीडी

विजलेंस टीम की जांच में पूरे लेन-देन मामले में इन दोनों अफसरों समेत कुल 5 लोगों के नाम सामने आए हैं, जिसमें कथित पत्रकार चंदन राय, स्वप्निल राय और अतुल शुक्ला भी शामिल हैं.

मालूम हो कि  स्पेशल टास्क फोर्स और विजिलेंस ने अधिकारियों के खिलाफ जांच में गंभीर आरोप लगाएं हैं. एसआईटी का दावा है कि अजयपाल शर्मा ने उनकी पत्नी होने का दावा करने वाली महिला के खिलाफ बुलंदशहर और रामपुर में फर्जी मुकदमे दर्ज करवाए. वहीं जेल में बंद माफिया अनिल भाटी से लगातार वॉट्सऐप पर चैट भी की.

अजयपाल शर्मा ने इसके अलावा मेरठ और एक अन्य जिले में अपनी तैनाती करवाने के लिए कथित पत्रकार और उसके साथी से 80 लाख रुपये के लेन-देन की बात भी की थी. अजयपाल की वॉट्सऐप चैट और कॉल रेकॉर्ड को एसआईटी ने अपनी जांच में सबूत बनाया है और इसी आधार पर विजिलेंस ने भी उनके खिलाफ जांच की. 

CM योगी से मिले पद्मश्री पुरस्कृत किसान रामशरण वर्मा, अनोखी खेती से शानदार कमाई

नोएडा के पूर्व एसएसपी रहे वैभव कृष्ण ने मनचाही पोस्टिंग के लिए लेनदेन का मसला उठाया था, यह वही मामला है जिसमें अजयपाल आरोपी हैं

IPS हिमांशु ने किया था मनचाही पोस्टिंग के लिए सौदा

आईपीएस हिमांशु कुमार ने 6 जुलाई 2019 को मनचाही पोस्टिंग के सिलसिले में लखनऊ के फन मॉल में कथित पत्रकार स्वप्निल राय से मुलाकात की थी, यह मीटिंग गैंगस्टर के आरोपित कथित पत्रकार चंदन राय ने फिक्स कराई थी. पोस्टिंग को लेकर बाद में नेता अतुल शुक्ला और हिमांशु कुकर के बीच पैसों की लेन देन को लेकर व्हाट्सएप चैट भी हुई थी.

चैट में अतुल शुक्ला ने फन मॉल की मीटिंग का जिक्र किया था. विजिलेंस ने एसआईटी की जांच रिपोर्ट और अपनी पड़ताल के बाद फन मॉल की मुलाकात, वॉट्सऐप चैट और लोकेशन के आधार पर ही आईपीएस हिमांशु के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की सिफारिश की थी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें