लखनऊ में 2 और जीका वायरस के मिले मामले, स्वास्थ्य विभाग की बढ़ी फजीहत

Mithilesh Kumar Patel, Last updated: Wed, 17th Nov 2021, 5:19 PM IST
  • राजधानी लखनऊ में तेजी से बढ़ रहे जीका वायरस के मामले ने एक बार फिर स्वास्थ्य विभाग की फजीहत बढ़ा दी है. लोकबंधु राजनारायण अस्पताल में इलाज के लिए आए मरीजों पर डाक्टरों को शक हुआ. टेस्ट करवाने पर 2 शख्स जीका वायरस पाजिटीव पाए गए. इसके साथ ही जिले में मरीजों की संख्या कुल 5 हो गई है.
प्रतीकात्मक फोटो

लखनऊ. लखनऊ स्थित लोकबंधु राजनारायण अस्पताल में इलाज कराने आए 2 और शख्स में जीका वायरस की पुष्टि हुई है. दरअसल अस्पताल के ओपीडी में पहुंचे मरीज पर इलाज कर रहे डाक्टरों को शक हुआ. शक के बिनाह पर जब उनकी टेस्ट कराई गई तो पता चला की मरीज जीका वायरस से संक्रमित हैं. जिले में दोनों मरीजों के साथ इस वायरस की चपेट में आने वालों की संख्या तेजी से बढ़कर 5 तक पहुंच गई है. दोनों नए मरीज क्रमशः जिले के आलमबाग और एलडीए कॉलोनी के रहने वाले हैं. तेजी से बढ़ रहे जीका वायरस के मामले ने एक बार फिर से स्वास्थ्य विभाग की फजीहत बढ़ा दी है.

आलमबाग निवासी 42 वर्षीय शख्स को बुखार की शिकायत थी. और इलाज कराने परिवार संग वह लोकबंधु अस्पताल के ओपीडी पहुंचे थें. मरीज की हालत देख इलाज कर रहे डॉक्टरों को शक हुआ. जिसके आधार उन्होंने मरीज का ब्लड टेस्ट कराया. रिपोर्ट आने के बिना खुलासा हुआ कि वह जीका वायरस से संक्रमित है. ऐसे हीं आशंका के आधार पर डाक्टरों ने एलडीए कॉलोनी स्थित आजाद नगर निवासी बुजुर्ग शख्स का जांच कराया जिनमें जीका वायरस की पुष्टि हुई है.

योगी सरकार UP में इस महीने नहीं देगी फ्री राशन योजना का लाभ, जानें वजह

इससे पहले राजधानी में पहले 2 और फिर 1 कुल 3 मामलों की पुष्टि हुई थी. पहले दो में एक महिला हुसैनगंज और दूसरा पुरुष कृष्णानगर निवासी संक्रमित पाया गया. हुसैनगंज निवासिनी 24 वर्षीय महिला और कृष्णानगर निवासी 32 वर्षीय पुरुष दोनों एसिम्प्टोमैटिक मरीज पाए गए जो स्वास्थ्य विभाग के लिए राहत भरी रही. दोनों मरीजों में से पुरुष मरीज ने 9 नवंबर को सिविल अस्पताल में और महिला ने 8 नवंबर को लोकबंधु अस्पताल में अपना ब्लड सैंपल टेस्ट के लिए दिया था.

इसके आलावा तीसरी जीका वायरस संक्रमित महिला लालकुआ की रहने वाली है. बुखार की शिकायत होने पर वह परिजनों के साथ सिविल अस्पताल के ओपीडी में इलाज कराने पहुंची थी. जहां डॉक्टरों ने शक के आधार पर डेंगू और जीका वायरस दोनों का टेस्ट करवाया. शुक्रवार 12 नवंबर को टेस्ट रिपोर्ट से पता चला की महिला जीका वायरस से संक्रमित है. इस पर जिले के डिप्टी सीएमओ डॉ केपी त्रिपाठी ने बताया कि महिला को अब बुखार नहीं है और उसके परिवार में चार सदस्य हैं. महिला में जीका वायरस की पुष्टि होने के बाद परिवार के अन्य लोगों का ब्लड सैंपल लेकर जांच के लिए भेज दिया गया और उन्हें आइसोलेट रहने की नसीहत दी गई थी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें