यूपी में जीका वायरस का कहर, स्वास्थ्य विभाग ने बुखार आने पर दी डॉक्टर जांच की सलाह

Haimendra Singh, Last updated: Sat, 6th Nov 2021, 2:25 PM IST
  • यूपी में मच्छरों के काटने से होने के वाले जीका वायरस के मामले लगातार बढ़ते ही जा रहे है. दीपावली यानि गुरुवार के दिन कानपुर में जीका के 56 मामले सामने आए है. स्वास्थ्य विभाग ने लोगों सलाह दी है कि बुखार आने पर तुरंत ही जीका की जांच कराएं.
यूपी में जीका वायरस का कहर.( सांकेतिक फोटो )

लखनऊ. यूपी में जीका वायरस(Zika Virus) का कहर बढ़ता ही जा रहा है. त्योहारों पर हुए लोगों के आगमन से जीका वायरस के मामले बढ़ने का अंदेशा जताया जा रहा है. कानपुर के अलावा पूरे प्रदेश में जीका वायरस के मामलों में इजाफा हुआ है जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग ने सभी बुखार के मरीजों को डॉक्टर से सलाह उपचार लेने की सलाह दी है. वैसे तो प्रदेश में डेंगू और मलेरिया के मामले भी बड़ रहे है, लेकिन जीका ने स्वास्थ्य विभाग और लोगों की परेशानियों को बढ़ा दिया है. ऐसा माना जाता है कि एडिस मच्छर के काटने से मनुष्य में जीका वायरस फैलता है.

मच्छरों के काटने से मनुष्य को डेंगू और मलेरिया होता था लेकिन अब जीका वायरस ने यूपी में कोहराम मचा रखा है. राज्य में जीका वायरस से पीड़ितों की संख्या लगातार बढ़ रही है. दीपावली यानी गुरुवार के दिन कानपुर में 56 मामले सामने आए. साथ ही स्वास्थ्य विभाग ने कोविड कमांड सेंटर से जीका से पीड़ित लोगों का समय-समय पर नियमित हालचाल लेने का निर्देश दिया हैं. ताकि जीका के लक्षण नजर आने पर समय रहते हुए मरीज की पहचान और इलाज मुहैया कराया जा सके.

दिवाली के दिन कानपुर में फूटा जीका वायरस का बम, 56 नए संक्रमित मरीजों की पुष्टि

स्वास्थ्य विभाग ने दी सलाह

जीका के मामले बढ़ने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने लोगों को सलाह दी है कि बुखार पीड़ित व्यक्ति के शरीर पर यदि चकत्ते नजर आते है तो तुरंत डॉक्टर की सलाह लें. डॉक्टरों के अनुसार, जीका वायरस भी एडीज मच्छर के काटने से हो सकता है. साथ ही इसी मच्छर के काटने से डेंगू भी हो सकता है.

जीका के लक्ष्ण

जीका के मामले बढ़ने के डॉक्टरों ने लोगों को बुखार आने पर जांच कराने के आदेश दिए है. आप भी जीका वायरस का पता लगा सकते है. डॉक्टरो के अनुसार, आंखें लाल, सिर में दर्द, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द, थकावट, लक्षण, आमतौर पर 2 से 7 दिनों तक चलते हैं तो तुरंत जीका वायरस की जांच करा लें.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें