कोविड की तरह होम आइसोलेट होंगे जीका वायरस संक्रमित मरीज, हेल्पलाइन नंबर जारी

Swati Gautam, Last updated: Sun, 14th Nov 2021, 9:46 AM IST
  • शनिवार को स्मार्ट सिटी सभागार में जिलाधिकारी की अध्यक्षता में बैठक हुई. जिसमें जिलाधिकारी ने कोरोना की तरह जीका वायरस रोगी को भी होम आइसोलेट करने, कंटेनमेंट जोन बनाने के निर्देश दिए. जीका वायरस संबंधित जानकारी लेने के लिए हेल्पलाइन नंबर 0522-4523000 को भी जारी किया गया.
कोविड की तरह होम आइसोलेट होंगे जीका वायरस संक्रमित मरीज, हेल्पलाइन नंबर जारी. filr photo

लखनऊ. धीरे धीरे जीका वायरस का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है. सरकार इसकी रोकथाम की हर कोशिश में लगी है. इस संबंध में शनिवार को स्मार्ट सिटी सभागार में जिलाधिकारी की अध्यक्षता में बैठक हुई. इस बैठक में जीका वायरस की स्थिति और रोकथाम पर चर्चा हुई. साथ ही जिलाधिकारी ने कोरोना की तरह जीका वायरस रोगी को भी होम आइसोलेट करने, कंटेनमेंट जोन बनाने के निर्देश दिए. निगरानी टीमों को तत्काल सक्रिय कर सर्विलांस कार्य तेज करने का निर्देश दिया. साथ ही जीका वायरस संबंधित जानकारी लेने के लिए हेल्पलाइन नंबर 0522-4523000 को जारी किया गया है.

बैठक में डीएम अभिषेक प्रकाश ने कहा कि अभी से पूरी तरह सचेत हो कर नियंत्रण की कार्रवाई तेज करनी चाहिए. जहां भी जीका वायरस का केस मिलता है उसके 400 मीटर दायरे में जीका कंटेनमेंट जोन बनाया जाए. बैठक में यह तय हुआ कि कंटेटमेंट जोन में स्वास्थ्य विभाग की टीमें घर-घर जा कर एंटी लार्वा की चेकिंग व लक्षणात्मक लोगो का टेस्ट करेंगी. जो भी व्यक्ति जीका वायरस से संक्रमित है और होम आइसोलेटेड है उसके घर के बाहर बैरिकेटिंग लगाई जाएंगी. वहीं डीएम ने कहा कि जीका वायरस पॉजिटिव रोगी को पूरी तरह आइसोलेशन में रखा जाए. इंटीग्रेटेड कोविड कमांड सेंटर के माध्यम से लोगो को जीका वायरस के संबंध में जानकारी उपलब्ध कराने के लिए हेल्पलाइन नंबर 0522-4523000 को जारी किया गया है.

देवर ने शूट किया भाभी का नहाते वीडियो, वायरल करने की धमकी देकर ब्लैकमेलिंग, गिरफ्तार

बैठक में तय हुआ कि जो कंटेंटमेंट जोन बनाए जायेंगे उनकी सर्विलांस टीमें गर्भवती महिलाओं की टेस्टिंग करेंगी. साथ ही जीका कंटेनमेंट जोन के लिए 100 सर्विलांस टीमें तैनात की गई हैं. ये टीमें शाम छह बजे जिलाधिकारी शिविर कार्यालय को दिन भर की रिर्पोट देंगी. साथ ही इलाज के लिए जिले के आठ अस्पतालों में ज़ीका वायरस वार्ड बनाए जा रहे हैं और कोविड की तरह जीका वायरस की तरह आरआरटी टीमें बनाई जा रही हैं. इनके अलावा 500 सुपर सर्विलासं टीमें घर-घर रोगियों की निगरानी करेंगी. प्रत्येक सीएसचसी स्तर पर 25-25 टीमें लगाई जा रही हैं जिनमें आशा, आंगनबाड़ी कार्यकर्त्री, सिविल डिफेंस, हुसैनाबाद ट्रस्ट कर्मी होंगे. जीका के लक्षण और बचाव के लिए जागरूकता लाने को शहर में जगह जगह 40 होर्डिंग लगेंगे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें