NCRB के चौंकाने वाले आंकड़े जारी, यूपी में पारिवारिक कलह से सबसे ज्यादा मौत

Smart News Team, Last updated: 03/09/2020 08:45 AM IST
  • नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के आंकड़ों के अनुसार उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा लोगों की मौत पारिवारिक कलह के कारण हो रही है. जिसमें लोग आत्महत्या का रास्ता चुन रहे हैं. वहीं कृषि क्षेत्र से जुड़े लोगों की आत्महत्या के मामलों में यूपी टॉप छह राज्यों की सूची में नही है.
प्रतीकात्मक तस्वीर

लखनऊ: एनसीआरबी के ताजा आंकड़ों के मुताबिक उत्तर प्रदेश में पारिवारिक कलह के कारण सबसे ज्यादा लोगों की जान जा रही है. इसमें भी आत्महत्या करने वालों की संख्या सबसे ज्यादा है. राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) के आंकड़ों के अनुसार वर्ष 2019 में प्रदेश में 2208 लोगों ने पारिवारिक कलह के चलते आत्महत्या कर ली, जबकि अन्य अलग-अलग वजहों से आत्महत्या करने वालों की कुल संख्या 5464 है. जबकि वर्ष 2018 में यह संख्या 4842 थी. हालांकि पारिवारिक कलह के कारण की गई आत्महत्याओं की दर के आधार पर यूपी देश के अन्य राज्यों-केंद्र शासित प्रदेशों में 8वें स्थान पर है.

आपको बता दें कि एनसीआरबी के आंकड़ों के अनुसार देश में पारिवारिक कलह के कारण सबसे ज्यादा 34.4 प्रतिशत लोगों ने आत्महत्या की है. वहीं आत्महत्या की दूसरी बड़ी वजह बीमारी है. वर्ष 2019 में आत्महत्या करने वाले कुल लोगों में से 17.1 प्रतिशत ने बीमारी के कारण आत्महत्या की है. हालांकि बीमारी के कारण आत्महत्या के मामलों में देश के 14 राज्यों-केंद्र शासित प्रदेशों में यूपी का नाम नहीं है. 

लखनऊ: आम आदमी पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष बने फैसल खां लाला, कई नेता हुए शामिल

आत्महत्या करने वालों की संख्या के मामले में सबसे ज्यादा 6843 मामले तमिलनाडु, 3655 मामले केरल, 3285 मामले तेलंगाना और 2779 मामले उड़ीसा में हैं, जबकि यूपी में 2208 हैं. इसके साथ ही वर्ष 2019 में छात्रों की आत्महत्या के मामले में यूपी चौथे नंबर पर है. छात्रों की आत्महत्या के सबसे ज्यादा 1487 मामले महाराष्ट्र, 914 मामले तमिलनाडु, 673 मामले कर्नाटक व 603 मामले यूपी में दर्ज किए गए हैं. इसी तरह कृषि क्षेत्र से जुड़े लोगों की आत्महत्या के सर्वाधिक मामलों वाले देश के छह राज्यों की सूची में यूपी का नाम नहीं है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें