बसंत पंचमी 2022 पर इन मंत्रों से करें पूजा-अर्चना, मां सरस्वती का मिलेगा आशीर्वाद

Pallawi Kumari, Last updated: Fri, 28th Jan 2022, 5:40 PM IST
  • विद्या और ज्ञान की देवी मां सरस्वती का आशीर्वाद पाने के लिए बसंत पंचमी के दिन हर साल पूरे विधि विधान से उनकी पूजा की जाती है. लेकिन पूजा में मां के इन मंत्रो का उच्चारण और आरती जरूर करें. तभी आपकी पूजा सफल होगी और मां का आशीर्वाद मिलेगा.
मां सरस्वती (फोटो-लाइव हिन्दुस्तान)

माघ महीने के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को बसंत पंचमी का दिन होता है. इस दिन मां सरस्वती की पूजा की जाती है. इस साल 5 फरवरी 2022 को बसंत पंचमी पर सरस्वती पूजा होगी. ऐसी मान्यता है कि मां सरस्वती की पूजा करने से करियर और परीक्षा में सफलता मिलती है. नौकरी पेशा, स्कूल-कॉलेस, संस्थान और कला क्षेत्र से जुड़े लोग खास कर इस दिन मां सरस्वती की पूजा अर्चना करते हैं. 

सरस्वती माता की पूजा करते समय आप उनके मंत्रों का जाप और सरस्वती वंदना जरूर करें. वहीं पूजा के बाद उनकी आरती करना ना भूले. क्योंकि इसके बाद ही पूरा संपन्न होती है और आपको पूजा का शुभ फल प्राप्त होता है.

मौनी रॉय ने शादी की फोटो शेयर कर लिखा 'सप्तपदी मंत्र', हर दंपति को जानना चाहिए इसका मतलब

बसंत पंचमी के दिन न करें ये 5 काम

1. बसंत पंचमी के दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत होती है. इसलिए इस दिन पेड़-पौधों की कटाई नहीं करनी चाहिए.

2.बसंत पंचमी पर मां सरस्वती की पूजा होती है. इसलिए इस दिन किसी का अपमान न करें और किसी तरह के विवाद से दूर रहें.

3.बसंत पंचमी के दिन बिना नहाए भोजन न करें.

4.सरस्वती पूजा के दिन भूलकर भी मांस-मदिरा का सेवन न करें.

5.सरस्वती पूजा के दिन काला, लाल या रंग-बिरंगे कपड़े न पहनें. इस दिन पीले रंग का वस्त्र पहनना शुभ माना जाता है.

सरस्वती उपासना मंत्र

सरस्वती नमस्तुभ्यं वरदे कामरूपिणी, विद्यारम्भं करिष्यामि सिद्धिर्भवतु में सदा।

सरस्वती वंदना

या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता।

या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना॥

या ब्रह्माच्युत शंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता।

सा माम् पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा॥1॥

शुक्लाम् ब्रह्मविचार सार परमाम् आद्यां जगद्व्यापिनीम्।

वीणा-पुस्तक-धारिणीमभयदां जाड्यान्धकारापहाम्॥

हस्ते स्फटिकमालिकाम् विदधतीम् पद्मासने संस्थिताम्।

वन्दे ताम् परमेश्वरीम् भगवतीम् बुद्धिप्रदाम् शारदाम्॥2॥

घर, ऑफिस या दुकान कहीं न लगाएं इस दिशा में घड़ी, दरिद्रता की ओर चलने लगता है समय

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें