52 साल की मां ने प्यार कर फिर रचाई शादी, पति की मौत के बाद कैंसर और कोविड से थी ग्रस्त

Ruchi Sharma, Last updated: Sat, 5th Mar 2022, 9:12 AM IST
  • cancer survivor story महिला ने 44 साल की उम्र में अपने पति को साल 2013 में खो दिया था. इसके बाद वह कैंसर और कोविड से पीड़ित हो गई थी. तमाम मुश्किलों के बावजूद महिला ने हिम्मत नहीं हारी और पिछले साल उन्हें एक व्यक्ति से प्यार भी हो गया जिससे उन्‍होंने शादी कर ली.
cancer survivor story

cancer survivor story कहते हैं जब एक औरत की शादी होती है तो वहां पत्नी बनती है.. बहू बनती है.. फिर मां बनती हैं.. और इस रोल में वह अपने लिए जीना छोड़ देती हैं. वह अपनी पहचान खो देती है. वह समाज और परिवार के बने कानूनों के मुताबिक चलने लगती है. रिश्तों में परेशानियों के बावजूद भी वह अपने लिए जीने की नहीं सोच पाती. समाज के ठेकेदारों की मानें तो भले ही शादी कितनी भी परेशानी भरी हो दुखद हो लेकिन उसे औरत को निभाना ही पड़ता है. लेकिन जब कोई हमारा हाथ पकड़कर आगे बढ़ाने की सोचता है तो ये समाज और समाज के ठेकेदार भी हमारा कुछ नहीं बिगाड़ सकते. कुछ ऐसी ही कहानी है 52 साल की एक महिला की. यह कहानी बिल्कुल आपको टीवी सीरियल जैसी लगेगी, लेकिन यह हकीकत है.

यह कहानी खुद बेटे ने सोशल मीडिया पर एक भाव पोस्ट लिखते हुए बताया है. दरअसल महिला ने 44 साल की उम्र में अपने पति को साल 2013 में खो दिया था. इसके बाद वह कैंसर और कोविड से पीड़ित हो गई थी. बेटा बाहर रहता था और मां को भारत में अकेले रहना पड़ रहा था. तमाम मुश्किलों के बावजूद महिला ने हिम्मत नहीं हारी और पिछले साल उन्हें एक व्यक्ति से प्यार भी हो गया जिससे उन्‍होंने शादी कर ली. महिला ने कैंसर और डिप्रेशन जैसी बीमारियों को भी झेला था. लेकिन उन्‍होंने कभी उम्‍मीद नहीं खोई.

उत्तराखंड: बिजली दरों में बढ़ोतरी का मामला पहुंचा नैनीताल हाईकोर्ट

लिंक्डिन शेयर की इमोशनल कहानी

महिला के बेटे जिमीत गांधी ने लिंक्डिन पर अपनी मां की इमोशनल कहानी बयां की है, जिसे यूजर्स भी खूब पसंद कर रहे हैं. यूजर्स ने भी जिमीत के पोस्‍ट की तारीफ की है. लिंक्डिन प्रोफाइल के मुताबिक, जिमीत गांधी Refinitiv नाम की कंपनी में Sales and Account Management का काम देखते हैं और दुबई में रहते हैं.

पीएम मोदी ने काशी विश्वनाथ मंदिर में पूजा-आरती की, बजाया डमरू, देखें VIDEO

बेटे ने मां को कहा 'फाइटर'

जिमीत गांधी ने अपने पोस्‍ट में अपनी मां को 'फाइटर' और 'वॉरियर' की उपाधि से नवाजा है. उन्‍होंने जो पोस्‍ट लिखा है, उसके अंश क्‍या हैं? वह आपको बता देते हैं. जिमीत ने लिखा है, ' उन्‍होंने 2013 में अपने पति को खो दिया था. तब उनकी उम्र 44 साल थी. साल 2019 में उन्‍हें स्‍टेज 3 का ब्रेस्‍ट कैंसर हुआ, इसके बाद दो साल तक कई बार कीमोथेरेपी हुई.

कैंसर और डेल्‍टा वैरिएंट से थी ग्रस्त

दो साल बाद वह ठीक हुईं. कैंसर के इलाज के दौरान वह डेल्‍टा वैरिएंट से ग्रस्‍त हो गईं. इस दौरान उन्‍होंने डिप्रेशन और कैंसर दोनों को झेला. लेकिन उन्‍होंने कभी भी हार नहीं मानी. 52 साल की उम्र में उन्‍हें प्‍यार हो गया. उन्‍होंने शादी की और भारतीय समाज में व्‍याप्‍त कई टैबू को खत्‍म किया. वह फाइटर हैं और वो मेरी मां हैं.'

14 फरवरी को हुई शादी

जिमीत ने अपने पोस्‍ट में आगे ये भी लिखा है कि मेरी पीढ़ी के जितने भी लोग हैं, अगर आपके माता-पिता सिंगल हैं तो उनकी मदद करें. अगर वह कोई साथी तलाशते हैं तो उनका समर्थन करें, जिमीत ने 'हिंदुस्‍तान टाइम्‍स' से बात करते हुए कहा कि उनकी मां ने शुरुआत में अपनी रिलेशनशिप के बारे में बताने में संकोच किया था. लेकिन ये बात उन्‍होंने उनकी पत्‍नी को बताई. जिमीत के मुताबिक, उनकी मां की शादी 14 फरवरी को हुई थी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें