अब सीबीआई करेगी संजीत अपहरण और हत्या की जांच

Smart News Team, Last updated: 04/08/2020 11:35 PM IST
  • 22 जून को हुए संजीत अपहरण और हत्याकांड मामले की जांच उत्तर प्रदेश सरकार ने सीबीआई को सौंप दी है
धरने पर बैठे परिवारजन 

लखनऊ। कानपुर के बर्रा से अगवा हुए लैब टेक्नीशियन संजीत यादव के अपहरण और हत्या की जांच अब सीबीआई करेगी। 22 जून को हुए संजीत अपहरण और हत्याकांड मामले की जांच उत्तर प्रदेश सरकार ने सीबीआई को सौंप दी है। दरअसल, संजीत की बहन रुचि ने भाई की हत्या और अपहरण मामले की जांच केंद्रीय एजेंसी से करवाने की मांग की थी। इस मामले में संजीत के परिजन कानपुर पुलिस के खिलाफ शास्त्री चौक पर धरने पर बैठे थे। सीबीआई जांच के आश्वासन के बाद उन्होंने धरना खत्म कर दिया है।

फिरौती की रकम का 'खेल'

संजीत के घरवालों का आरोप है कि पुलिस वालों के कहने पर कहने पर ही उन्होंने प्रॉपर्टी बेचकर फिरौती के लिए 30 लाख रुपये जुटाए थे। पुलिस के कहने पर ही वे अपहर्ताओं को फिरौती की रकम देने गए। पुलिस के सुस्त रवैये के कारण ही अपहर्ता मौके से नोटों से भरा बैग लेकर निकल गए। बाद में फजीहत होने पर पुलिस ने कहा कि बैग में नकली नोट थे। यही नहीं पुलिस ने घरवालों पर दबाव बनाकर झूठा बयान भी दिलवाया, जिसका बाद में परिवारजनों ने खुलासा भी किया। संजीत के अपहर्ताओं की गिरफ्तारी के बाद उसकी हत्या कर शव पांडु नदी में बहाए जाने का खुलासा हुआ। सीबीआई अगर मामले की जांच अपने हाथ में लेती है तो इस मामले में पुलिस की मुश्किलें बढ़ सकती है।

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें