धनतेरस पर खरीदारी के लिए यूपी के लखनऊ कानपुर प्रयागराज गोरखपुर मेरठ आगरा वाराणसी में शुभ मुहूर्त

Anurag Gupta1, Last updated: Wed, 27th Oct 2021, 12:17 PM IST
  • धनतेरस दीवाली के दो दिन पहले 2 नवंबर के मनाया जाएगा. इस दिन खरीदारी करना काफी शुभ होता है. इस दिन धन्वंतरि, कुबेर और मां लक्ष्मी की पूजा करने से सुख समृध्दि बनी रहती है. पंचांग के अनुसार कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को धनतेरस मनाया जाता है.
(प्रतीकात्मक फोटो)

दीवाली के पांच दिवसीय पूजा पाठ और खरीदारी 2 नवंबर धनतेरस के दिन से शुरू हो जाएगी. इसमें लोग आभूषणों, भूमि, संपत्ति, वाहन और अन्य भौतिक वस्तुओं की खरीदी करके सुख समृध्दि के लिए लक्ष्मी और कुबेर की पूजा करते हैं. खरीदी और निवेश के लिए पुष्य नक्षत्र का भी काफी महत्व है. इस बार 28 अक्टूबर को पुष्य नक्षत्र और 2 नवंबर धनतेरस पड़ रहा है. धनतेरस पर कब करें खरीदारी और निवेश जानें शुभ मुहूर्त और पूजा विधि.

हिंदू पंचांग के अनुसार कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को धनतेरस मनाया जाता है. इस साल धनतेरस 2 नवंबर 2021, दिन मंगलवार को पड़ रहा है. धनतेरस पर सोना-चांदी के आभूषण, भूमि, संपत्ति, वाहन, भोग विलास की वस्तुएं आदि खरीदना अत्यंत शुभ होता है. लोग इस नक्षत्र में नया व्यापार व्यवसाय भी शुरू करते हैं. इस दिन लोग लक्ष्मी पूजा व कुबेर की पूजा करते है. माना जाता है इस दिन लक्ष्मी पूजा करने से समृध्दि आती है और इस दिन किए कार्य शुभ होते हैं. धनतेरस के दिन धन्वंतरि और मां लक्ष्मी की पूजा करने से जीवन में कभी धन की कमी नहीं रहती है.

Dhanteras 2021: धनतेरस पर बिल्कुल न खरीदें ये चीजें, वरना हो जाएंगे कंगाल

धनतेरस का शुभ मुहूर्त:

धन त्रयोदशी पूजा का शुभ मुहूर्त शाम 5 बजकर 25 मिनट से शाम 6 बजे तक

प्रदोष काल शाम 05:39 से 20:14 बजे तक

वृषभ काल शाम 06:51 से 20:47 तक

धरतेरस की पूजा विधि:

चौकी पर साफ लाल कपड़ा बिछाए. इसके बाद उस पर गंगा जल छिड़ककर भगवान लक्ष्मी, कुबेर व धन्वंतरि की मूर्ति का स्थापना करें. मूर्ति के आगे दीप और धूपबत्ती जलाए. देवी देवताओ को लाल फूल अर्पित करें. धनतेरस के दिन जिस चीज की खरीदारी करी है उसे चौकी पर रखें यदि गाड़ी है तो उसकी चाभी को रख सकते हैं. इसके बाद सभी देवी देवताओं का मंत्र जाप करें और फूल अर्पित करें उसके बाद सभी देवी देवताओं की आरती करें. पूजा के दौरान लक्ष्मी मंत्र का जाप करें और कुछ मीठे का भोग लगाए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें