Diwali Puja Muhurat: लखनऊ, कानपुर, प्रयागराज, गोरखपुर, मेरठ आगरा वाराणसी दिवाली लक्ष्मी पूजा शुभ मुहूर्त

Pallawi Kumari, Last updated: Thu, 4th Nov 2021, 1:57 PM IST
  • दिवाली 2021 का त्योहार 4 नवंबर 2021 को मनाया जाएगा. इस दिन माता लक्ष्मी, भगवान गणेश और कुबेर देव की पूजा की जाती है. दिवाली में लक्ष्मी पूजा का खास महत्व होता है. इस दिन विधि विधान से पूजा करने पर साल भर घर में लक्ष्मी का वास होता है. आइये जानते हैं आपके शहर में क्या है लक्ष्मी पूजा का शुभ मुहूर्त.
दिवाली लक्ष्मी पूजा के लिए यूपी में शुभ मुहूर्त.

Diwali 2021: दीप व प्रकाश का त्योहार दीपावली हर साल कार्तिक मास की अमावस्या को मनाया जाता है. इस बार दिवाली 4 नवंबर 2021 गुरुवार को है. हिंदू धर्म में दिवाली और लक्ष्मी पूजा का खास महत्व होता है. इस दिन माता लक्ष्मी को प्रसन्न कर उनका आशीर्वाद पाने के लिए भक्त पूरे विधि विधान से पूजा करते हैं. दिवाली के दिन शाम में लक्ष्मी-गणेश, कुबेर और माता सरस्वती की पूजा की जाती है. आइये जानते हैं दिवाली 2021पर लक्ष्मी पूजा का शुभ-मुहूर्त.

दीपावली के दिन रोज की पूजा नहीं पूरे विधि विधान से विशेष पूजा की जाती है. इसलिए जरूरी है कि शुभ मुहूर्त पर ही लक्ष्मी पूजन करें, जिससे कि आपको उनका आशीर्वाद मिल सके. आइए जानते हैं दिवाली पर आपके राज्य यूपी के शहरों में क्या है लक्ष्मी पूजा का शुभ-मुहूर्त.

Diwali 2021: आमदनी अठन्‍नी और खर्चा रुपइया से हैं परेशान, तो दिवाली के दिन इस अचूक टोटके से होगा धनलाभ

दिवाली के दिन यूपी में लक्ष्मी पूजन का शुभ मुहूर्त-

लखनऊ- शाम 05 बजकर 58 मिनट से 07 बजकर 55 मिनट तक

मेरठ - शाम 06 बजकर 07 मिनट से 08 बजकर 03 मिनट तक

कानपुर- 06 बजकर 01 मिनट से 07 बजकर 88 मिनट तक

प्रयागराज - 05 बजकर 57 मिनट से 07 बजकर 54 मिनट तक

आगरा- 05 बजकर 53 मिनट से 07 बजकर 50 मिनट तक

गोरखपुर- 05 बजकर 58 मिनट से 07 बजकर 56 मिनट तक

लक्ष्मी पूजा की विधि:  पूजा स्थल पर एक चौकी रखें और उस पर लाल कपड़ा बिछाकर देवी लक्ष्मी और भगवान गणेशकी प्रतिमा स्थापित करें. पूजा के पास जल से भरा एक कलश भी रखें. फिर भगवान की प्रतिमा में तिलक करें और एक घी का दीपक जलाएं. पूजा के पास सभी मूर्ति में जल, मौली,गुड़, हल्दी, चावल, फल, अबीर-गुलाल आदि अर्पित करें. -इसके बाद देवी सरस्वती, मां काली, श्री हरि और कुबेर देव की विधि विधान पूजा करें. इसके बाद आरती करें. लक्ष्मी पूजा के बाद घर की तिजोरी और तुलसी की भी पूजा करें.

Diwali 2021: दीपावली से पहले क्यों मनाई जाती है छोटी दिवाली, जानें इसकी पौराणिक कथा

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें