दिवाली पर दक्षिणावर्ती शंख से करें लक्ष्मी जी की पूजा, ऐसे आएगा जिंदगी में बदलाव

Deepakshi Sharma, Last updated: Thu, 4th Nov 2021, 3:28 PM IST
  • 3 नवंबर को नरक चतुर्दशी (Naraka Chaturdashi), छोटी दिवाली (Choti Diwali), , रूप चौदस (Roop Chaudas), या यम दिवाली (Yam Diwali) है. वहीं 4 नवंबर को दिवाली (Diwali 2021) का त्योहार है. इस दिन मां लक्ष्मी की पूजा का महत्व होता है, लेकिन इस दिन दक्षिणावर्ती शंख से पूजा करने पर आपको खूब मिलेगा लाभ होगा.
दक्षिणावर्ती शंख से करें लक्ष्मी जी की पूजा

लखनऊ. दिवाली 2021 का पर्व अब बस कुछ ही दिनों में शुरू होने जा रहा है. 2 नवंबर को भारत में धनतेरस का त्योहार मनाया गया और आज 3 नवंबर को छोटी दीपावली मनाई जा रही है. 4 नवंबर के दिन बड़ी दिवाली (Diwali 2021) को लोग धूमधाम से मनाते हुए नजर आएंगे. ये दिन मां लक्ष्मी को समर्पित होता है. इस दिन मां लक्ष्मी की पूजा की जाती है. दिवाली की रात दक्षिणावर्ती शंख के साथ मां लक्ष्मी का पूजन होता है. ऐसा करने से भाग्य में वृद्धि होती है और मां लक्ष्मी जी की कृपा आप पर बनी रहती है. ऐसे में आइए जानते हैं चमत्कारी शंख से जुड़े कुछ खास महत्व के बारे में यहां.

समुद्र मंथन से दक्षिणवर्ती शंख की उत्पति हुई थी. पौराणिक कथा के मुताबिक मंथन से जो 14 रत्म मिले थे उनके में से एक ये शंख भी है, जिसे बेहद ही पवित्र और शुभ मना गया है. हिंदू धर्म में शादी विवाह, उत्सव और अन्य मांगलिक कामों में शंख बजाने की परंपरा है. शंख की ध्वनि को ज्यादात शुभ और मंगलकारी माना गया है. शास्त्रों में शंख की स्थापना के नियम भी बताए गए हैं. सभी प्रकार के शंखों में दक्षिणावर्ती शंख को श्रेष्ठ और अत्यंत शुभ बताया गया है.

Diwali 2021: दिवाली की साफ-सफाई में मिले ये चीज, तो समझें इस साल मां लक्ष्मी की कृपा से बसरेगा धन

दिवाली पर दक्षिणावर्ती शंख है तो इसकी विशेष पूजा करना चाहिए. इस शंक को आप तिजोरी या फिर पवित्र स्थान पर ही रखना चाहिए. इस पर किसी की दृष्टि नहीं पड़नी चाहिए. इस शंख लाल रंग के कपड़े में लपेट कर ही रखना चाहिए और नित्य दर्शन के बाद तिजोरी में रखना चाहिए. इसे खुले में नहीं रखा जाता है. दिवाली पर पूजन से पहले इसमें गंगाजल भर दें. इसके बाद एक मंत्र का जाप करें.

'ॐ श्री लक्ष्मी सहोदराय नम:'

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें