सबसे रहस्यमयी झरना, एक सेकंड में 3 हजार लीटर पानी वैज्ञानिकों के लिए पहेली

Smart News Team, Last updated: Fri, 21st Jan 2022, 11:14 AM IST
  • मध्य फ्रांस में स्थित फॉसे डायोन झरने में पानी कहां से आ रहा है इसे लेकर आज भी वैज्ञानिक अपना सिर पकड़ लेते हैं. इस रहस्य को सुलझाने का प्रयास कई बार किया गया, हालांकि अभी तक कोई सफल नहीं रहा है. यहीं वजह है कि फॉसे डायोन झरने को देखने के लिए हर साल दुनियाभर से लाखों पर्यटक यहां आते हैं.
मध्य फ्रांस में स्थित फॉसे डायोन झरना (तस्वीर-साभार सोशल मीडिया )

भले ही आज विज्ञान कितना आगे क्यों न हो लेकिन कई मामलों में आज भी कई चीज़ें हैं, जिन्हें चमत्कार ही माना जाता है. ऐसे ही अनसुलझे रहस्य के तौर पर मध्य फ्रांस में स्थित फॉसे डायोन झरने में पानी कहां से आ रहा है इसे लेकर आज भी वैज्ञानिक अपना सिर पकड़ लेते हैं. इस रहस्य को सुलझाने का प्रयास कई बार किया गया, हालांकि अभी तक कोई सफल नहीं रहा है. यहीं वजह है कि फॉसे डायोन झरने को देखने के लिए हर साल दुनियाभर से लाखों पर्यटक यहां आते हैं. पूर्वजों का अनुमान है कि झरने के बगल से अरमानकोन नदीं गुजरी है, हो सकता है उसी नदी का पानी आता हो. हालांकि वैज्ञानिक अभी इस बात की पुष्टि नहीं कर पाए हैं.

झरना टोनेरे नाम के शहर में स्थित है. ये हर सेकेंड कम से कम 300 लीटर पानी बाहर की ओर फेंकता है, जो काफी ज्यादा है. अगर बारिश ज्यादा हुई हो, तो झरने का पानी 3000 लीटर प्रति सेकेंड तक भी पहुंच जाता है. इस पानी को रोमन लोग पीने के लिए इस्तेमाल करते थे, जबकि 17वीं सदी में लोग इससे नहाते थे. 18वीं सदी में लोगों ने जब इस झरने की थाह लगाने की कोशिश की, तो उन्हें पता चला कि गोल हौज की तहलटी ही नहीं है. धरती से फूट रहे इस झरने का सोर्स जानने के लिए कई बार कोशिश की गई, लेकिन कोई इसमें सफल नहीं हो पाया.

 

4 घंटे टीवी देखने वाले सावधान! जम सकता है खून का थक्का, लें आधे घंटे का ब्रेक

 

हो चुकी है कई मौत

बताते हैं कि फॉसे डियोनी स्प्रिंग के जलस्रोत को ढूंढने की कोशिश 17वीं सदी से ही हो रही है. इसे ढूंढने गए ज्यादातर लोगों की मौत हो गई, जिसकी वजह से ये जगह और भी रहस्यमयी मानी जाने लगी. कई लोग कहते हैं कि इसमें दूसरी दुनिया से पानी आता है और वो जगह सांपों का घर है. 1974 दो गोताखोरों ने इसका स्रोत ढूंढना चाहा, तो वे इसमें खोकर मर गए. 1996 में फिर कोशिश हुई, तो एक और गोताखोर की मौत हो गई. कुछ साल पहले एक बार फिर एक गोताखोर ने कोशिश की, तो वो आधे रास्ते से लौट आया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें