Ganesh Chaturthi 2021: गणेश चतुर्थी पर इस मुहूर्त में करें गणपति की स्थापना, जानें पूरी विधि

Priya Gupta, Last updated: Fri, 10th Sep 2021, 10:22 AM IST
  • गणेश चतुर्थी का त्योहार शुक्रवार 10 सितंबर से शुरू होने जा रहा है, जो 10 दिनों तक चलेगा. पूरे दस दिन भक्त भगवान की महिमा और भक्ति में लीन रहेंगे.
Ganesh Chaturthi 2021

हर साल की तरह इस साल भी गणेश महोत्व को लेकर लोगों में उत्साह देखने को मिल रही है. हालांकि इस बार कोरोना की वजह से धूमधाम से पूजा नहीं होगी सड़को पर वो हलचल देखने को नहीं मेलेगी. लेकिन अपन-अपने घरों में लोग गणेश पूजा कर रहे हैं. 10 सितंबर शुक्रवार से शुरू हो रहा है गणेश चतुर्थी के दिन सुबह 6 बजे से लेकर 12:58 बजे तक रवि योग है. ब्रह्म योग भी शाम 05:43 बजे तक है.रवि योग में गणेश चतुर्थी का प्रारंभ हो रहा है, वहीं गणेश चतुर्थी पूजा का मुहूर्त दिन में 11:03 बजे से दोपहर 01:33 बजे तक है.ऐसे में आप गणपति स्थापना पूजा मुहूर्त में कर सकते हैं.

गणेश चतुर्थी पूजा के लिए आप मिट्टी से बनी गणपति प्रतिमा का चयन करें. यह पर्यावरण के अनुकूल रहेगी. गणपति को गाजे बाजे पूरे उत्साह के साथ अपने घर लेकर आए. एक चौकी पर पीले वस्त्र का आसन लगाकर गणपति को स्थापित करें. अब गंगाजल और पंचामृत से गणेश जी का अभिषेक करें. उनको वस्त्र अर्पित करें.फिर चंदन, धूप, दीप, पुष्प, सिंदूर, जनेऊ, मोदक, फल आदि चढ़ाएं. उसके बाद आरती करें, आप जितने दिन के लिए गणपति को अपने यहां रखना चाहते हैं, उतने दिन उनकी विधि विधान से सुबह और शाम की पूजा करें.

गणपति के इन प्रसिद्ध मंदिरों में दर्शन से पूरी होगी मनोकामना, जानें भारत में कहां विराजमान हैं भगवान गणेश

गणेश चतुर्थी का त्योहार शुक्रवार 10 सितंबर से शुरू होने जा रहा है, जो 10 दिनों तक चलेगा. पूरे दस दिन भक्त भगवान की महिमा और भक्ति में लीन रहेंगे. गणेश चतुर्थी पर घर औऱ मंदिरों में बप्पा की प्रतिमा की स्थापना कर विधि विधान से पूजा की जाती है. दस दिनों बाद प्रतिमा का विजर्सन किया जाता है.गणेश चतुर्थी के खास मौके पर कई लोग मंदिरों में भी जा कर भगवान के दर्शन करते हैं. भारत में ऐसे कई प्राचीन और प्रसिद्ध मंदिर हैं, जहां गणेशोत्व के मौके पर भक्तों की भीड़ देखी जाती है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें