Holi 2022: होली पर करें हनुमान जी की पूजा, जीवन में नहीं होगी पैसों की कमी, जानें विधि

Ruchi Sharma, Last updated: Wed, 2nd Mar 2022, 3:43 PM IST
  • Holi 2022 होली के त्यौहार को लेकर लोगों की अलग अलग मान्यताएं है. होली को लेकर एक मान्यता यह भी है कि होली के दिन हनुमान जी (hanuman puja holi 2022) की पूजा की जाती है. कहते हैं कि होली के दिन हनुमान जी की पूजा से सारी परेशानियां खत्म हो जाती है.
होली पर करें हनुमान जी की पूजा

होली (Holi 2022) का त्योहार चैत्र माह के कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा को मनाया जाता है. इस बार होली 18 मार्च (Holi 2022) को मनाई जाएगी. होली के एक दिल पहले होलिका दहन किया जाता है. होली के त्यौहार को लेकर लोगों की अलग अलग मान्यताएं है. होली को लेकर एक मान्यता यह भी है कि होली के दिन हनुमान जी (hanuman puja holi 2022) की पूजा की जाती है. कहते हैं कि होली के दिन हनुमान जी की पूजा से सारी परेशानियां खत्म हो जाती है. होली के दिन हनुमान जी की विधि विधान (Hanuman Puja Vidhi) से पूजा करने पर जीवन में पैसों की कमी नहीं होती है व बुरी शक्तियां आपसे दूर रहती हैं.

मान्यता है कि होलिका दहन की रात हनुमान जी की आराधना करने के लिए बेहद खास मानी जाती है. होलिका दहन की रात को यदि पूरी श्रद्धा और भक्ति से हनुमान जी की पूजा और अर्चना की जाती है तो हर एक प्रकार के कष्टों से मुक्ति मिल जाती है.

इंदौर में बहन की सहेली से रेप कर भरी मांग, फोटो मंगेतर को भेज तुड़वाई सगाई

हनुमान जी की पूजा कल्याणकारी मानी जाती है

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार नए संवत्सर के राजा और मंत्री दोनों ही मंगल हैं. मंगल के कारक हनुमान जी हैं. ऐसे में होलिका दहन की रात को अगर हनुमान जी की पूजा और कुछ उपाय कर लिए जाएं, तो इसे शुभ माना जाता है. होली के दिन हनुमान जी की पूजा बेहद कल्याणकारी मानी गई है.

जानें कैसे करें हनुमान जी की पूजा

होलिका दहन के दिन हनुमान जी की पूजा करते समय विशेष बातों का ध्यान रखने की जरूरत है. हनुमान जी की पूजा होलिका दहन की रात को की जाती है. ऐसे में पूजा से पहले स्नान करें और इसके बाद पास के किसी हनुमान मंदिर या घर में ही हनुमान जी के सामने बैठकर उनकी पूजा करें और मंत्र जाप करें.

यूक्रेन मामले में अखिलेश का BJP पर तंज, कहा- भाजपाइयों की आदत है दूसरों में दोष ढूंढना

हनुमान जी का करें पाठ

हनुमान जी की पूजा से पहले हनुमान जी को सिंदूर, चमेली का तेल, फूलों का हार, प्रसाद और चोला अर्पित करें और उनके समक्ष घी का दीपक जलाएं. पूजा के बाद हनुमान चालीसा और बजरंग बाण का पाठ करें. अंत में हनुमान जी की आरती अवश्य करें.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें