पर्यटकों के स्वागत के लिए नवाबों का शहर लखनऊ तैयार,सोमवार से खुलेगा बड़ा इमामबाड़ा

Smart News Team, Last updated: Sun, 20th Sep 2020, 12:31 AM IST
  • लखनऊ में बड़ा इमामबाड़ा कोरोना काल में था जिसके कारण इसे फिर से खोलने की तैयारी शुरु हो चुकी है. सोमवार से पर्यटक बड़ा इमामबाड़ा फिर से घूमने आ सकेंगे लेकिन उसके लिए जरुरी नियमों का पालन करना अनिवार्य होगा.
इमामबाड़ा लखनऊ

लखनऊ: राजधानी की प्रमुख ऐतिहासिक धरोहरों में से एक बड़ा इमामबाड़ा खुलने वाला है.वहीं भूलभुलैया के दीदार के लिए पर्यटकों को अभी और इंतजार करना पड़ सकता है. सत्रहवीं शताब्दी की वास्तुकला और नवाबी ज़माने की बेहतरीन कारीगरी का नमूना बड़ा इमामबाड़ा फिर से पर्यटकों के स्वागत के लिए तैयार है. कोरोना काल के चलते बंद चल रहीं शहर की ऐतिहासिक धरोहरों को पर्यटकों के लिए धीरे धीरे खोलने की कवायद चल रही हैं.

जानकारी के मुताबिक केंद्र सरकार के अनलॉक के बाद नए नियम कानून के साथ बड़ा इमामबाड़ा, छोटा इमामबाड़ा, पिक्चर गैलरी खुलने के लिए तैयार है. नई गाइडलाइन के साथ शहर की ऐतिहासिक इमारतों को खोलने के लिए पर्यटन विभाग ने एक प्रस्ताव भी तैयार किया है. सोमवार को पर्यटन विभाग की बैठक के बाद आधिकारिक रूप से उसकी घोषणा हो जाएगी.लेकिन भूलभुलैया के खुलने में अभी समय है. दरअसल भूलभुलैया के परशियन हॉल का एक हिस्सा जर्जर होकर झुक गया था, इसके बाद हुसैनाबाद ट्रस्ट ने परशियन हॉल आने वाले दरों पर लोहे के दरवाजे लगा दिए थे. जोकि निर्माण के बाद ही पर्यटकों के लिए खोला जाएगा.

कोरोना काल में चांद की चांदनी में ताजमहल देखने पर लगा ग्रहण, नहीं मिलेगी अनुमति

वहीं रेजीडेंसी की बात की जाए तो कोरोना काल के बाद जुलाई माह में पर्यटकों के लिए खोली गई रेजीडेंसी में दर्शकों की काफी कमी देखने को मिली. ऑनलाइन टिकट लागू करने के बाद जुलाई माह में करीब 365 और अगस्त माह में लगभग 1100 दर्शक ही रेजीडेंसी देखने पहुंचे हैं. क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी अनुपम श्रीवास्तव ने बताया कि पर्यटकों के लिए बड़ा इमामबाड़ा, छोटा इमामबाड़ा, पिक्चर गैलरी खोलने की तैयारी लगभग पूरी हो गई है. सोमवार को विभागीय बैठक के जो भी आदेश मिलेंगे, उस आदेश का पालन करते हुए पर्यटन स्थल खोल दिए जाएंगे. कोरोना संक्रमण को देखते हुए कई तरह के नियमों का पालन करना अनिवार्य होगा. जिसमें मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग महत्वपूर्ण हैं.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें