सास ने पैदा होने वाले बच्चे का नाम फैमिली को बताया तो प्रेग्नेंट बहू बोली- अब ये नाम नहीं रखना

Smart News Team, Last updated: Tue, 7th Sep 2021, 7:58 PM IST
  • आठ महीने की गर्भवती एक महिला ने अपने पैदा होने वाले का मिडिल नेम अपने नाना के नाम पर रखा और पति ने शराब के नशे में ये बात सास को बता दी. सास ने पूरी फैमिली और फ्रेंड्स को नाम बता दिया जिसके बाद बहू कह रही है कि अब वो ये नाम नहीं रखेगी.
गर्भवती महिला की प्रतीकात्मक फोटो

लखनऊ. पारिवारिक दूरियां बढ़ाने में सास-बहू के झगड़ों का रोल किसी से छिपा नहीं है लेकिन कोई बहू अपने पैदा होने वाले बच्चे का खुद का चुना नाम सिर्फ इसलिए बदलने जा रही है क्योंकि सास ने वो नाम फैमिली मेंबर को पहले बता दिया. महिलाओं की तमाम समस्याओं को फोकस में रखकर चल रही वेबसाइट नेटमम्स पर करीब 8 महीने की गर्भवती महिला ने साइट के दूसरे रीडर्स से सलाह मांगी है कि सास ने सारा सस्पेंस और मजा खराब कर दिया है, ऐसे में अब उसे क्या करना चाहिए. महिला की पहचान साइट पर किंबरले के तौर पर दिख रही है लेकिन जरूरी नहीं कि ये सही नाम हो. मसला इतना सीधा है नहीं जितना अभी आपको लग रहा होगा.

दरअसल, पति-पत्नी ने आपस में पैदा होने जा रहे बच्चे का नाम तय किया जिसमें तीन शब्द थे. बीच का नाम पत्नी ने अपने गुजर गए नाना के नाम पर रखना तय किया था जिनका एक साल पहले निधन हो गया था. दोनों का प्लान ये था कि जब बच्चा पैदा होगा तो सबको नाम बताएंगे. लेकिन फैमिली एक फुटबॉल मैच देखने गया था जहां पति ने भरपूर शराब पी ली और अपनी मां के सामने पत्नी के साथ बच्चे का तय किया गया नाम बता दिया. जब पत्नी पहुंची तो सास ने उससे बच्चे के नाम को लेकर पूछा तो उसने कहा कि अभी 100 परसेंट तय नहीं है.

भारती सिंह ने कम किया 15 किलो वजन, हो गईं स्लिम-ट्रिम, जानें कैसे

इसके बाद सास किसी मित्र के घर श्राद्ध में गईं. जो गुजर गए थे उनका नाम और बहू के नाना एक था. सास ने वहां श्रद्धांजलि पुस्तिका में शोक संदेश लिखने के बाद परिवार के बाकी लोगों के साथ पैदा होने वाले बच्चे का भी नाम लिख दिया जिसका मिडिल नेम बहू के नाना के नाम पर था लेकिन सास ने ऐसा दिखाया कि बच्चे के मिडिल नेम में जो नाम है वो उनके उस दोस्त की याद में है जो गुजर गए हैं. बहू ने बच्चे का ये नाम अपनी मां को भी नहीं बताया था लेकिन पति के नशे ने उसके प्लान पर पानी फेर दिया. 

बहू अब इतने गुस्से में है कि उसने सास को इसके लिए पहले तो काफी सुना दिया और फिर ये भी मन बना लिया है कि भले उन्होंने अपने नाना के नाम को बच्चे का मिडिल नेम बनाने का सोचा था लेकिन अब जबकि सब लोग ये जान चुके हैं वो ये नाम छोड़कर कोई और नाम रख लेंगी. और इस बार बच्चे के नाम की घोषणा बच्चा पैदा होने के बाद वो पति के साथ मिलकर करेंगी. बहू ने वेबसाइट पर लोगों से नाम बदलने के अपने फैसले पर राय मांगी है कि क्या उसे ऐसा करना चाहिए. कई तरह की राय आ रही हैं लेकिन ज्यादातर का यही कहना है कि नाम वही रखो, कोई याद नहीं रखेगा कि सास ने कहां क्या लिखा और क्या कहा. जब बच्चा पैदा हो तो आप खुद बता देना कि ये नाम है और इसमें मिडिल नेम मेरे नाना की याद में है. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें