आउटडेटेड हो चुके स्टीम इंजन छोटे स्टेशनों की बढ़ाऐंगे सुंदरता

Smart News Team, Last updated: 28/10/2020 01:04 AM IST
  • रेलवे बोर्ड की ओर से हेरिटज प्रोजेक्ट बनाया गया जिसके अंतर्गत आउटडेटेड हो चुके स्टीम इंजनों को इस्तेमाल में लाया जाएगा. इन इंजनों को छोटे स्टेशनों में रखा जाएगा ताकि लोगों को रेलव के इतिहास के बारे में पता चल सकेगा.
आउटडेटेड हो चुके स्टीम इंजन को अब लखनऊ के छोटे स्टेशनों की बढ़ाएंगे सुंदरता

लखनऊ. आउटडेटेड हो चुके स्टीम इंजन को अब लखनऊ के छोटे स्टेशनों में सुंदरता बढ़ाने के लिए रखा जाएगा. रेलवे बोर्ड की ओर से हेरिटेज प्रोजेक्ट बनाया गया, जिसमें इन ऐतिहासिक इंजनों को रेलवे स्टेशनों में रखने की अनुमति मिली है.

दरअसल, स्टीम इंजनों की जगह अब डीजल और बिजली से चलने वाले इंजनों ने ले ली, इसलिए रेल मंत्रालय के पास इन इंजनों की भरमार है. अब रेलवे बोर्ड इन इंजनों हेरिटेज प्रोजेक्ट के अंतर्गत छोटे स्टेशनों में रखने की तैयारी कर रहा है ताकि छोटे स्टेशनों की शोभा बढ़ सके. उत्तर रेलवे लखनऊ मंडल के चारबाग रेलवे स्टेशन पर ऐसे ही एक इंजन को सर्कुलेटिंग एरिया में लगाया गया, जिससे स्टेशन की सुंदरता बढ़ सके. चारबाग के अलावा पूर्वोतर रेलवे लखनऊ मंडल के हजरतगंज स्थित डीआरएम कार्यालय में स्टीम लगाया गया है. इसके साथ ही लोहिया पार्क में भी स्टीम इंजन को लगाया है जिससे लोगों को रेलवे का इतिहास पता चल सके.

दुकान में लगी भीषण आग के धमाके से दहल उठा इलाका, बिल्डिंग गिरने से एक की मौत

उत्तर रेलवे लखनऊ मंडल के मुताबिक छोटे स्टेशनों की खूबसूरती बढ़ सके इसके लिए यह योजना तैयार की गई है. अभी चारबाग रेलवे स्टेशन में स्टीम इंजन को लगाया गया है लेकिन रेलवे के इतिहास के बारे में लोगों रू-ब-रू कराया जा सके इसके लिए दूसरे छोटे स्टेशनों में इसको लगाने की तैयारी की जा रही है. स्टीम इंजनो के अलावा आलमबाग स्थित कैरिज एंड वैगन वर्कशॉप, लोको वर्कशॉप में पुराने समय में इस्तेमाल होने वाले क्रेन, टर्न टेबल, लकड़ी की बनी पुरानी बोगियों सहित अन्य कई ऐतिहासिक हिस्से रखे हुए हैं, इन सभी को हेरिटेज प्रोजेक्ट के तहत इस्तेमाल किया जाएगा. ताकि लोगों को रेलवे के इतिहास के बारे में पता चल सके.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें