OMG: महिला के एक नहीं बल्कि दो हैं प्राइवेट पार्ट, कहानी जानकर रह जाएंगे हैरान

Swati Gautam, Last updated: Mon, 3rd Jan 2022, 9:03 PM IST
  • आजकल एक खबर जमकर वायरल हो रही है जिसमें एक महिला के एक नहीं बल्कि दो प्राइवेट पार्ट (योनी) हैं. सिर्फ इतना ही नहीं महिला के शरीर में दो गर्भाशय भी हैं. महिला ने खुद हिम्मत दिखाकर पूरी दुनिया को इस बारे में जानकारी दी है जिसे सुन कर आप भी हैरान रह जायेंगे.
महिला के एक नहीं बल्कि दो हैं प्राइवेट पार्ट. file photo

लखनऊ. अक्सर देखा जाता है कि कुछ लोग जन्म के साथ ही ज़्यादा अंगों के साथ इस दुनिया में आते हैं. अभी तक आपने सामान्य से ज्यादा उंगलियां और दो सिर वाले लोग तो जरूर देखे होंगे लेकिन इस बार काफी रेयर मामला सामने आया है जिसमें एक महिला के एक नहीं बल्कि दो प्राइवेट पार्ट (योनी) हैं. सिर्फ इतना ही नहीं महिला के शरीर में दो गर्भाशय भी हैं. यह महिला यूट्यूब की मशहूर ब्लॉगर कसान्ड्रा बैकसन हैं. खास बात यह कि कसान्ड्रा बैकसन ने खुद सामने आकर हिम्मत दिखाकर पूरी दुनिया को इस बारे में जानकारी दी है वरना अक्सर देखा जाता है कि सामान्य से अलग लोग अक्सर खुद के बारे में बताने से डरते व झिझकते हैं.

यूट्यूब पर ही एक विडियो के जरिए महिला ने अपने बारे में जानकारी दी है. बैकसन ने अपने फैंस से कहा कि उन्होंने कई साल तक सोंच विचार करने के बाद लोगों को ये बताने की हिम्मत जुटाई कि वो दूसरी लड़कियों की तरह नहीं हैं. उसके शरीर में एक नहीं दो दो प्राइवेट पार्ट हैं. उनकी इस वीडियो पर लोगों के मन में कई तरह के सवाल भी उत्पन्न हुए और उनका कमेंट सेक्शन सवालों से भर गया. किसी ने उनसे सेक्स लाइफ से जुड़े सवाल किए तो किसी ने पीरियड्स को लेकर सवाल पूछे. खास बात यह है कि महिला ने कुछ लोगों की शंकाएं दूर करते हुए सवालों के जवाब भी दिए.

एक साल के गैप में पैदा हुए जुड़वा बच्चे, लोग बोले- ये कुदरत का करिश्मा है

यू ट्यूबर महिला से उनके पीरियड्स को लेकर सवाल पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि कि उनके पीरियड सामान्य होते हैं. इसकी वजह है कि उनके पास दो फैलोपियन ट्यूब का होना है. जो एक दूसरे से जुड़े हुए हैं जिससे महीने में एक बार ही पीरियड्स होते हैं. इतना ही नहीं यू ट्यूब सेंसेशन बैकसन ने एक चार्ट के जरिए बताया कि किस तरह से उसके शरीर में 2 प्राइवेट पार्ट हैं. वैज्ञानिकों का कहना है कि यह रेयर ऑफ रेयरेस्ट मामला है. वहीं अभी तक केवल दो महिलाओं ने ही इस सच्चाई को स्वीकार करने की हिम्मत दिखाई है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें