आईएएस में लखनऊ की शुभांगी ने हासिल की 88वीं रैंक

Smart News Team, Last updated: 04/08/2020 11:12 PM IST
  • लखनऊ में आशियाना स्थित पीडब्ल्यूडी कॉलोनी निवासी शुभांगी ने ऑल इंडिया 88 रैंक हासिल कर देशभर में शहर का मान बढ़ाया
शुभांगी ने मारी भारतीय प्रशासनिक सेवा में छलांग

 

लखनऊ। संघ लोक सेवा आयोग की ओर से आज भारतीय प्रशासनिक सेवा 2019 परीक्षा का साक्षात्कार के बाद फाइनल परिणाम जारी कर दिया गया है। इसमें लखनऊ में आशियाना स्थित पीडब्ल्यूडी कॉलोनी निवासी शुभांगी ने ऑल इंडिया 88 रैंक हासिल कर देशभर में शहर का मान बढ़ाया है। शुभांगी ने वाराणसी के सिगरा स्थित डालिम्स सनबीम स्कूल से साल 2006 में हाईस्कूल और शहर के आशियाना सेक्टर आई स्थित एलपीएस से 2008 में इंटरमीडिएट की पढ़ाई पूरी की। उसके बाद अपने लक्ष्य की ओर बढ़ चलीं। उनकी मां ममता गृहणी और पिता अरविंद कुमार श्रीवास्तव उत्तर प्रदेश ब्रिज कॉरपोरेशन में प्रबंध निदेशक हैं। पिता के स्थानांतरण वाले जॉब के बावजूद भी शुभांगी की पढ़ाई पर कोई फर्क नहीं पड़ा।परिणामों पर तनिक भी असर नहीं पड़ा। शुभांगी ने एमिटी यूनिवर्सिटी लखनऊ से बीटेक किया और उसके बाद इलाहाबाद एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी से एमटेक की पढ़ाई की। वह एमटेक गोल्ड मेडलिस्ट भी रहीं। उन्होंने सीएसआईआर नेट क्वालीफाई किया।इसके बाद शुभांगी ने प्रशासनिक सेवा की तैयारी शुरु कर दी।कठिन परिश्रम का ही नतीजा रहा की शुभांगी ने शानदार प्रदर्शन करते हुए ऑल इंडिया 88 रैंक हासिल की। शुभांगी के बड़े भाई शशांक श्रीवास्तव गूगल में और छोटे भाई सृजन श्रीवास्तव गुड़गांव की कंपनी में कार्यरत हैं। शुभांगी अपनी सफलता का मंत्र क्रिएटिविटी, पॉजिटिविटी और दृढ़ता मानती हैं। वह कहती हैं पढ़ाई के लिए मुहूर्त की जरूरत नहीं है। आप मेहनत से तैयारी करें, कामयाबी जरूर मिलेगी। उनका लक्ष्य है कि प्रशासनिक सेवा में रहकर वह शिक्षा के क्षेत्र में कुछ अलग और बेहतर करें जिससे समाज की प्रगति हो।

आईएएस (IAS) के साथ दूसरे विकल्प पर भी करें फोकस

शुभांगी का कहना है कि आइएएस की तैयारी के साथ करियर के दूसरे विकल्प पर भी फ़ोकस करना चाहिए। उन्होंने कहा कि आईआईटी दिल्ली से पीएचडी के साथ-साथ यूपीएससी की तैयारी कर रही थी। जिसकी वजह से पढ़ाई में बहुत ज्यादा स्ट्रेस पड़ गया था। यही कारण था कि दो प्रयास में  यूपीएससी क्लीयर नहीं हो पाया। इसके बाद 2018 में पढ़ाई से ब्रेक लेकर यूपीएससी की कोचिंग की और यूपीएससी मेंस क्वालिफाई किया। उनका मानना है कि इंटरव्यू में आपकी पर्सनालिटी देखी जाती है। जो भी बायोडाटा आप देते हैं सवाल उससे रिलेटेड ही होते हैं। इसके लिए उन्होंने काफी तैयारी की। 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |