Viral video: बोरी में चिल्लर भरकर स्कूटी खरीदने पहुंच गया शख्स, शोरूम मालिक के उड़े होश

Atul Gupta, Last updated: Fri, 18th Feb 2022, 5:50 PM IST
  • पाई पाई जमा कर सामान खरीदने की कहावत को सच कर एक शख्स ने स्कूटी खरीदी. इसके लिए वो आठ महीने तक चिल्लर जमा करता रहा और एक दिन बोरे में चिल्लर भरकर स्कूटी खरीदने शोरूम पहुंच गया.
स्कूटी खरीदने गए शख्स की चिल्लर गिनता स्टॉफ (फोटो- सोशल मीडिया)

एक, दो और पांच रूपयों के सिक्कों से क्या खरीदा जा सकता है? आप कहेंगे ज्यादा से ज्यादा टॉपी और क्या. लेकिन अगर हम आपसे कहें कि चिल्लर से स्कूटी खरीदी जा सकती है तो आप क्या कहेंगे? जी हां, एक शख्स झोले में चिल्लर भरकर शोरूम गया और स्कूटी ले आया. उस शख्स ने चिल्लर और स्कूटी की फोटो भी इंटरनेट पर डाली है जहां से ये खबर वायरल हो रही है. जानकारी के मुताबिक इस शख्स का नाम हिरक जे दास है जो असम में एक स्टेशनरी की दुकान चलाते हैं. हिरक के मुताबिक उनका सपना था कि उनकी भी अपनी एक स्कूटी हो. इस सपने को पूरा करने के लिए हिरक पिछले सात आठ महीने से रोज अपनी सेविंग जमा कर रहे थे. हिरक का काम स्टेशनरी का है तो उनके पास बच्चे खुल्ले पैसे लेकर ही आते थे इसलिए उन्होंने चिल्लर ही जमा करनी शुरू कर दी.

हिरक के पास जब पर्याप्त चिल्लर जमा हो गई जिससे वो स्कूटी खरीद सकते हैं तो वो सारे जिल्लर एक बोरे में लेकर शोरूम पहुंच गए. इसके बाद हिरक ने स्कूटी देखी और पेमेंट के टाइम पर वो चिल्लर वाली बोरी निकालकर दे दी. शोरूम मालिक ने भी कोई ऑब्जेक्शन नहीं किया और हिरक को स्कूटी की चाभी थमा दी और बाकी स्टाफ को चिल्लर गिनने में लगा दिया.

हिरक के पास इतने सिक्के थे कि उन्हें चार टोकरियों में रखना पड़ा और चारों टोकरियों में पड़ी चिल्लर को स्टाफ गिन गिनकर रखने लगा. हाल ही में ऐसी ही एक और घटना वायरल हुई थी जहां महेंद्रा शोरूम में गाड़ी देखने आए एक किसान को सिर्फ इसलिए भगा दिया गया था क्योंकि उसके कपड़े अमीरों वाले नहीं थी. सेल्समैन को लगा कि ये क्या गाड़ी खरीदेगा ये टाइम पास करने आया है. आधे घंटे बाद वो किसान दस लाख रूपये लेकर शोरूम दोबारा पहुंचा और गाड़ी देने की जिद करने लगा. सेल्समैन के हाथ पैर फूल गए और उसने दो दिन का टाइम देने की गुजारिश की लेकिन किसान नहीं माना और तुरंत गाड़ी देने की जिद करने लगा. ये मामला आनंद महेंद्रा तक भी गया था.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें