यूपी के किसानों के लिए खुशखबरी, ग्राम पंचायत और ब्लॉक स्तर पर बनेंगे गोदाम

Smart News Team, Last updated: 17/10/2020 09:02 PM IST
  • किसान को उसकी फसल के अच्छे दाम मिल सके इसके लिए सरकार ग्राम पंचायतों और ब्लॉक स्तर पर  5000 गोदाम बनाने की तैयारी कर रही है. सहकारिता विभाग जल्द ही इसका प्रस्ताव केंद्र सरकार को भेजने वाली है.
 यूपी के किसानों को भंडारण की सुविधा मुहैया कराने की योजना बनाई जा रही है

लखनऊ. किसानों की आय दोगुनी करने के लिए उत्तर प्रदेश लगातार प्रयास कर रही है इसी क्रम में सरकार ने ग्राम पंचायतों और ब्लॉक स्तर पर  किसानों को भंडारण की सुविधा मुहैया कराने की योजना बनाई है, जिसमें सहकारिता विभाग मदद करेगा.

इस योजना के लिए कृषि उत्पादन आयुक्त ने सहकारिता विभाग को प्रस्ताव तैयार करने को कहा है. इस योजना के लिए सहकारिता विभाग 2500 रुपये खर्च कर 5000 गोदाम बनाने की तैयारी कर रहा है. इसके लिए अभी प्रस्ताव तैयार किया जा रहा है जल्द ही किसानों को भंडारण सुविधा मिलने से फसल के अच्छे दाम मिल सकेंगे.

सीएम योगी ने 10 लाख कर्मचारियों को दिया स्पेशल फेस्टिवल और LTC कैश पैकेज

सहकारिता विभाग द्वारा तैयार किए इस प्रस्ताव को पहले केंद्र सरकार को भेजा जाएगा उसके बाद पूरे प्रदेश में लागू किया जाएगा. अपर प्रमुख सचिव सहकारिता रामीरेड्डी के मुताबिक ग्राम पंचायतों और ब्लॉक स्तर के सभी गोदामों की कुल भंडारण क्षमता करीब 8.60 लाख मीट्रिक टन होगी. इसमें किसानों को अपने अनाज को सुरक्षित रखने की सुविधा मिलेगी. इसके अलावा किसान देशभर में ऑनलाइन उत्पादों की बिक्री भी कर सकेंगे.

गोदाम बनने से किसानों का इस तरह होगा मुनाफा

भंडारण की सुविधा न होने से किसानों को कई बार अपनी फसलों को औने-पौने दाम में बेचना पड़ता है लेकिन गोदाम बनने से किसानों को काफी राहत होगी. इससे वह तैयार फसलों को गोदाम में रख सकेगा और जब उस फसल का बाजार में अच्छा दाम मिलेगा तो वह उसके अच्छी कीमत पर बेच सकेगा.

बैंक से मिल सकेगा लोन

किसानों को सुविधा देने के लिए प्रस्ताव में लोन की सुविधा भी है. किसान भंडारण में रखे अनाज पर लोन ले सकता है. अगर कोई किसान लोन लेता है तो वह फसल को बेचने के बाद उस लोन को चुका सकता है. ग्राम पंचायतों और ब्लॉक स्तर पर बनने वाले गोदामों से किसानों को फसल के अच्छे दाम मिलेंगे साथ ही बिचौलियों से भी छुटकारा मिलेगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें