युवाओं का मार्ग दर्शन करने के लिए वेबिनार का हुआ आयोजन

Smart News Team, Last updated: 03/12/2020 03:29 PM IST
  • बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर केंद्रीय विश्वविद्यालय में वेबिनार का आयोजन इंडियन एकडेमी आफ एंपावरमेंट एंड एजुकेशन रिसर्च के सहयोग से आयोजित वेबिनार में कुलपति प्रोफ़ेसर संजय सिंह ने रखी अपनी बात
बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर केंद्रीय विश्वविद्यालय

लखनऊ: देश अभी भी कोरोना वायरस की महामारी के चलते विकट परिस्थितियों से जूझ रहा है. ऐसे में समाज के प्रबुद्ध वर्ग द्वारा लगातार देश को जागरूक करने के साथ इसकी अर्थव्यवस्था सुधारने व स्थिति को सामान्य पटरी पर लाने के तरह-तरह के प्रयास किए जा रहे हैं. इसी क्रम में बुधवार को बाबा भीमराव अंबेडकर केंद्रीय विश्वविद्यालय में वेबीनार का आयोजन किया गया.

कार्यक्रम में बाबा भीमराव अंबेडकर केंद्रीय विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर संजय सिंह मौजूद रहे. इंडियन एकडेमी आफ एंपावरमेंट एंड एजुकेशन रिसर्च के सहयोग से आयोजित वेबिनार में कुलपति प्रोफ़ेसर संजय सिंह ने अपनी बात रखी. कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि बिजनेसमैन और उद्योगपतियों की सफलता की कहानी पढ़कर युवा अपनी जिंदगी का रास्ता बना सकते हैं. उनके साथ समाज में भी बदलाव आएगा. कॉरपोरेट प्रशिक्षक वैभव मेदीरत्ता ने विद्यार्थियों को अच्छी कंपनी में नौकरी प्राप्त करने के लिए किन विशेषताओं का विकास अपने अंदर करना चाहिए, इसकी विस्तार से जानकारी दी.

महंगाई की मार! गैर सब्सिडी घरेलू सिलेंडर LPG 50 रुपए हुआ महंगा

उन्होंने युवाओ को कंपनी को स्थापित करने तथा सफलता प्राप्त करने के सफर के बारे में पढ़ने और उससे सीखने की सलाह दी. उन्होंने कहा कि व्यवसाय जगत में बड़ी कंपनियों में नौकरी के लिए विद्यार्थियों को मांग और आपूर्ति और उपभोक्ताओं के व्यवहार की जानकारी होना समय की मांग है.

उन्होंने विद्यार्थियों को 90 दिन तक लगातार प्रमुख बिज़नेस अखबार व मैंग्ज़ीन से 10 हेडलाइंस प्रतिदिन पढ़ने की सलाह भी दी. वेबिनार में प्रो.एमएस खान ,आयोजन सचिव डॉ. रमेश कुमार चतुर्वेदी,डिपार्टमेंट ऑफ रूरल मैनजमेंट के विभागाध्यक्ष प्रो. कुशेंद्र मिश्रा सहित शिक्षक व विद्यार्थी शामिल हुए.

जागरूकता ही एड्स का इलाज

बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर केंद्रीय विवि में विश्व एड्स दिवस के उपलक्ष्य में विधि विभाग की ओर से आयोजित जागरूकता अभियान में विभागाध्यक्ष डॉ.संजीव चड्ढा ने कहा कि जागरूकता से ही एड्स रुकेगा.शिक्षा से ही एड्स से लोगों को बचाया जा सकता है. जागरूकता ही इसकी रोकथाम है. प्रोफेसर सुदर्शन वर्मा ने रोकथाम पर विस्तार से प्रकाश डाला. इस अवसर पर डा. प्रदीप कुमार, डा. अनीस अहमद, डा. मुजीबुर्रहमानडा.सुफिया ने एड्स जागरूकता एवं नियंत्रण पर अपने विचार व्यक्त किए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें