अडानी समूह का हुआ लखनऊ एयरपोर्ट, मायावती ने कहा भाजपा से कोई समझौता नहीं

Smart News Team, Last updated: 02/11/2020 08:14 PM IST
लखनऊ. चौधरी चरण सिंह अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट अब निजी कंपनी अडानी समूह के हाथों हो गया है. वर्ष 2019 में अडानी ने एयरपोर्ट के लिए सबसे बड़ी बोली लगाई थी. इसके बाद इस समूह को 50 वर्षों के लिए यह एयरपोर्ट लीज पर दिया गया है. सोमवार को एक सादे समारोह में एयरपोर्ट के मौजूदा निदेशक एके शर्मा और अडानी समूह की ओर से सीईओ एयरपोर्ट सुरेश चंद्र ने करार पर हस्ताक्षर किए. इसके बाद अब पूरी तरीके एयरपोर्ट अडानी समूह के नियंत्रण में आ गया है. इस एयरपोर्ट से सालाना 55 लाख से अधिका यात्रियों का फुटफाल है.                   हाथरस केस में लखनऊ बैंच की सुनवाई आज हाईकोर्ट में पूरी हो गई. अगली तारीख 25 नवंबर को है. लखनऊ बैंच में सुनवाई के दौरान न्यायमूर्ति पंकज मित्तल और न्यायमूर्ति राजन राए की खंड पीठ में एडीजी लॉ एंड आर्डर प्रशांत कुमार, तत्कालीन एसपी हाथरस विक्रांत भी हाजिर रहे. सभी की निगाहें न्यायलय की कार्रवाई पर टिकी हुई है. सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर पीड़िता के परिवार की सुरक्षा का जिम्मा अब केंद्रीय रिजर्व पुलिस और सीआरपीएफ ने संभाल लिया है. रविवार को सीआरपीएफ की टीम ने बिटिया के घर पहुंचकर उसके आसपास के इलाके को अपने सुरक्षा घेरे में ले लिया. 80 जवान तीन शिफ्टों में पीड़ित परिवार की सुरक्षा कर रहे हैं.                                                              उत्तरप्रदेश में विधानसभा की सात सीटों पर मंगलवार को होने वाले मतदान के ठीक एक दिन पहले बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने भारतीय जनता पार्टी के साथ मिले होने के आरोपों पर सफाई दी. मायावती ने कहा कि उनकी पार्टी भाजपा की विचारधारा के विपरीत है और भविष्य में विधानसभा या लोकसभा चुनावों में भाजपा के साथ कभी गठबंधन नहीं करेगी. सोमवार को मीडिया से बातचीत में मायावती ने कहा कि उपचुनाव में समाजवादी पार्टी और कांग्रेस हमारी पार्टी के खिलाफ साजिश में लगी हुई हैं और गलत ढंग से प्रचार कर रहे हैं.                                                                 उत्तरप्रदेश की 10 विधानसभा सीटों पर सोमवार को चुनाव पूरा हो गया. सभी दस प्रत्याशियों को निर्विरोध निर्वाचित कर दिया गया. दस सीटों पर दस ही प्रत्याशी होने की वजह से मतदान की जरूरत नहीं पड़ी. सपा से राम गोपाल यादव और बसपा से रामजीत गौतम उच्च सदन पहुंच गए हैं. भाजपा से केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी, भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री अरूण सिंह, पूर्व डीजीपी बृज लाल, नीरज शेखर, हरिद्वार दूबे, गीता, सीमा द्विवेदी और बीएल वर्मा भी राज्यसभा के सदस्य चुने गए हैं.

सम्बंधित वीडियो गैलरी