दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस वे पर साइन बोर्ड, क्रैश बैरियर समेत 90 फीसद काम पूरा

Smart News Team, Last updated: Sun, 21st Feb 2021, 8:30 PM IST
  • 10 मार्च तक एक्सप्रेस वे का काम पूरा होने का लक्ष्य रखा है. जिसके बाद यह आम लोगों के लिए खुल जाएगा. इस समय अंतिम चरण का काम चल रहा है. काम काफी तेजी से चल रहा है. मार्च के पहले हफ्ते में इसके पूरा हो जाने की उम्मीद है
एक्सप्रेस वे (प्रतीकात्मक तस्वीर)

मेरठ. पिछले लंबे समय से दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे का काम अधर में अटका हुआ था. हालांकि, अब जल्द ही यह पूरा होने वाला है. दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे का काम अब अंतिम चरण में है. हाइवे का 90 फीसदी काम पूरा हो चुका है, हालांकि, बचा हुआ काम 10 मार्च तक पूरा कर लेने का लक्ष्य रखा गया है. बता दें, हाइवे पर डामर की परत डालने के बाद उसके ऊपर थर्मोप्लास्ट यानी सफेद पट्टी की मार्किंग की जाती है. यह कार्य 29 किमी हो गया है. इसके अलावा क्रैश बैरियर 700 मीटर के एलिवेटेड स्ट्रक्चर और परतापुर तिराहे पर कुछ स्थानों को छोड़कर बाकी स्थानों पर लगाया जा चुका है. बता दें, कुल 17 हजार कैट आई लगाई जानी हैं, जिसमें से तीन हजार लगाई जा चुकी हैं.

वहीं, दिल्ली-मेरठ हाइवे पर स्प्रिंकलर, ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम, बिजली आदि के केबल का काम भी पूरा चुका है, अब उसका कनेक्शन करके ट्रायल किया जा रहा है. स्ट्रीट लाइट का कार्य डासना के एलिवेटेड स्ट्रक्चर को छोड़कर बाकी सभी चयनित स्थानों पर हो चुका है, हालांकि चोरी के डर से कुछ स्थानों पर अभी उनमें एलईडी नहीं लगाई गई है.

छेड़छाड़ का विरोध करने पर बखेड़ा, दो पक्षों में हुई मारपीट

सीसीटीवी के खंभे भी लगाए जा चुके हैं, हालांकि, अभी तक चोरी के डर से कैमरे नहीं लगाए गए. उम्मीद है कि मार्च के पहले हफ्ते में कैमरों का कार्य भी पूरा हो जाएगा. इसके अलावा किमी स्टोन, साइन बोर्ड, दिशा सूचक व खतरे से आगाह करने वाले बोर्ड तैयार हैं जिन्हें मार्च के प्रथम सप्ताह में लगाया जाएगा. उम्मीद है कि दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे का काम 10 मार्च तक पूरा हो जाएगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें