AAP ने बनाई प्रदेशव्यापी आंदोलन की रणनीति, स्मार्ट मीटरों को हटाने की मांग उठाई

Smart News Team, Last updated: 02/12/2020 02:05 PM IST
आम आदमी पार्टी ने मेरठ में सरकार से स्मार्ट मीटरों को हटाने और उपभोक्ताओं से अधिक वसूली गई अधिक राशि को वापस करने की मांग उठाई. उन्होंने जिमखाना मैदान में प्रदेशव्यापी आंदोलन की रणनीति बनाई. कार्यकर्ताओं ने चेतावनी दी कि यदि सरकार ने उनकी मांगों को पूरा नहीं किया तो उन्हें आंदोलन के लिए विवश होना पड़ेगा.
जिमखाना मैदान की अपार चेंबर में आंदोलन की रणनीति बनाते आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता

मेरठ. बुधवार को जिमखाना मैदान के अपार चेंबर में आम आदमी पार्टी के पदाधिकारियों ने स्मार्ट मीटर की गड़बड़ी और उपभोक्ताओं से कई गुना अधिक बिल की वसूली पर प्रदेशव्यापी आंदोलन की रणनीति बनाई. इस दौरान जिले भर के पदाधिकारी और कार्यकर्ता पहुंचे. कार्यकर्ताओं की मांग है कि स्मार्ट मीटरों को हटाया जाए साथ ही उपभोक्ताओं से अधिक वसूली हुई राशि को वापस किया जाए.

इस मौके पर जिला महासचिव अभिषेक द्विवेदी, गौहर रजा सिद्दीकी, फारूक किदवई और सरदार गुरमिंदर सिंह ने कहा कि स्मार्ट मीटर से उपभोक्ताओं की परेशानियों, जांच में फेल साबित हुए स्मार्ट मीटरों और उपभोक्ता सर्वे आदि के सभी आंकड़े सरकार के पास हैं. इसके बावजूद भी सरकार कोई कार्रवाई नहीं कर रही है. सरकार तरह-तरह की प्रक्रियाओं का बहाना बनाकर उपभोक्ताओं को उनके मुद्दे से भटका रही है.

मेरठ की हवा में छाया प्रदूषण, खतरनाक श्रेणी में पहुंची वायु गुणवत्ता

उन्होंने यह भी कहा कि स्मार्ट मीटरों से कई गुना अधिक बिल की वसूली हो रही है. उपभोक्ताओं के द्वारा शिकायत भी की जाती है लेकिन उसकी कोई सुनवाई नहीं होती. अधिकारी बिल और मीटर को सही बता कर लोगों को ऑफिस से भगा देते हैं. साथ ही उन्हें बिल जमा करने की चेतावनी दे देते हैं.

मेरठ: पति के साथ विवाद के बाद सामान लेने गई महिला हुई लापता, रिपोर्ट दर्ज

कार्यकर्ताओं का कहना है कि स्मार्ट मीटर को हटाया जाए और जो अधिक बिल वसूली हुई है वह आगे के बिलों में समायोजित किए जाएं. स्मार्ट मीटरों के जरिए उपभोक्ताओं की जेब पर डाका डालने का काम बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. इसके साथ ही चेक मीटर का ड्रामा भी बंद होना चाहिए. जहां पर चेक मीटर लगाए गए हैं वहां बोलता उसे इसका कोई अतिरिक्त शुल्क नहीं वसूला जाए. स्मार्ट मीटर द्वारा उपभोक्ताओं से वसूली में अधिक दिलों के रुपयों को ब्याज सहित वापस किया जाना चाहिए. यदि सरकार के द्वारा ऐसा नहीं किया गया तो मजबूरन हमें आंदोलन के लिए विवश होना पड़ेगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें