कृषि कानून वापस लेने तक किसानों के साथ संघर्ष करेंगी आम आदमी पार्टी: अध्यक्ष सभाजीत सिंह

Smart News Team, Last updated: Fri, 26th Feb 2021, 1:54 PM IST
  • कृषि कानून को लेकर आम आदमी पार्टी ( आप ) के प्रदेश अध्यक्ष सभाजीत सिंह ने कहा है कि जब तक केंद्र सरकार तीनों कृषि कानूनों को वापस नहीं लेती, तभ तक पार्टी किसानों के साथ कानून की वापसी के लिए संघर्ष करती रहेंगी.
आम आदमी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सभाजीत सिंह.

मेरठ: कृषि कानूनों को लेकर आम आदमी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सभाजीत सिंह ने बड़ा ब्यान दिया है. केंद्र सरकार जब तीनों कृषि कानूनों को वापस नहीं लेती, तब तक आम आदमी पार्टी किसानों के साथ मिलकर संघर्ष करती रहेंगी. उन्होंने कहा कि कृषि कानून के बाद देश के किसानों को अपने ही खेत में मजदूर और चंद पूंजीपतियों के हाथों देश का किसान गुलाम बन जाएगा.

शुक्रवार को पार्टी प्रदेश अध्यक्ष सभाजीत सिंह ने पुराना हापुड़ अड्डा में कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर महासंपर्क अभियान की शुरुआत की. उन्होंने हस्तिनापुर विधानसभा क्षेत्र के बाबा विरसा सिंह का डेरा, भगवानपुर खादर सहित कई गांव में किसानों के साथ सार्वजनिक बैठक की. उन्होंने किसानों से अपील की है कि किसान महापंचायत में अधिक से अधिक संख्या में शामिल हो. साथ ही आस-पास के गांव के लोगों से 28 फरवरी को रोहटा बाईपास पर होने वाली किसान महापंचायत में भाग लेने की अपील की है.

पत्नी की बीमारी में मदद के लिए आया रिश्तेदार, मौत के बाद कर लिया घर पर कब्जा

सभाजीत सिंह ने कहा, कि जिस दिन से यह काला कानून की शुरुआत हुई है, उसी दिन से प्रदेश प्रभारी एवं सांसद संजय सिंह इस काले बिल का विरोध कर रहे है. कार्यक्रम में पार्टी प्रदेशाध्यक्ष सभाजीत सिंह के साथ महिला प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष नीलम यादव, उपाध्यक्ष निशा निगम, जिला महासचिव अभिषेक द्विवेदी, महिला प्रकोष्ठ के महासचिव इलाहाबाद सानिया मिर्जा के साथ मुरलीपुर, लखवाया, सलारपुर, सरधना आदि गांव का भ्रमणकर किसान महापंचायत में आने का आह्वान किया. साथ ही उपाध्यक्ष गौहर रजा सिद्दीकी, आरिफ खान, फारुख किदवई, चाँद खान, शारिक त्यागी, नवेद खान, अनमोल कुमार, पदम सिंह आदि लोग मौजूद रहें.

मेरठ की डिफेंस कॉलोनी में आवारा कुत्तों का आतंक, पिता-पुत्र को कर दिया घायल

गोकशी को लेकर हो गया बवाल, हिंदू संगठनों ने जाम किया मेरठ-करनाल हाईवे

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें