UP Election: मेरठ में ओवैसी का शोषित वंचित सम्मेलन, सपा की बढ़ेगी टेंशन!

ABHINAV AZAD, Last updated: Sat, 18th Dec 2021, 10:27 AM IST
  • AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी मेरठ के बिजली बंबा बाईपास हापुड़ रोड में शोषित वंचित सम्मेलन करेंगे. इस दौरान AIMIM चीफ पश्चिमी यूपी के मुसलमानों को साधने की कोशिश करेंगे. ओवैसी की मेरठ में दो महीने में यह दूसरी सभा है.
ओवैसी शोषित वंचित सम्मेलन के माध्यम से पश्चिमी यूपी के मुसलमानों को साधने की कोशिश करेंगे.

मेरठ. AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी आज मेरठ आएंगे. इस दौरान AIMIM चीफ पश्चिमी यूपी के मुसलमानों को साधने की कोशिश करेंगे. दरअसल, AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी मेरठ के बिजली बंबा बाईपास हापुड़ रोड में शोषित वंचित सम्मेलन करेंगे. इस सम्मेलन में दक्षिण और शहर सीट दोनों के मुसलमानों को एआईएमआईएम से जुड़ने का न्योता देंगे. पश्चिमी यूपी के मुसलमानों को सपा का वोट बैंक माना जाता है. ऐसे में असदुद्दीन ओवैसी की यह सभा सपा की टेंशन बढ़ाने वाली है.

असदुद्दीन ओवैसी की मेरठ में दो महीने में यह दूसरी सभा है. इससे पहले AIMIM चीफ ने मेरठ के किठौर में सभा की थी. बताया जा रहा है कि मेरठ के नौचंदी मैदान में 13 नवंबर को ओवैसी की जनसभा होना थी, लेकिन अनुमति नहीं मिली. इस वजह से अंतिम समय पर कैंसिल करनी पड़ी थी. दरअसल, ओवैसी का शोषित वंचित सम्मेलन मुख्यत: मेरठ शहर और मेरठ दक्षिण दो विधानसभा सीटों से जुड़ा है. मेरठ में ये दोनों ऐसी विधानसभा सीटें हैं जहां मुस्लिम मतदाता काफी संख्या में हैं.

कृषि कानून लागू होने पर किसान विरोध,रद्द होने पर व्यापारी नाराज,क्या करें सरकार!

गौरतलब है कि मेरठ शहरी सीट पर सपा के रफीक अंसारी वर्तमान विधायक हैं. 2017 के विधानसभा चुनाव में सपा के रफीक अंसारी ने यहां बीजेपी उम्मीदवार लक्ष्मीकांत वाजपेयी को हराया था. सपा उम्मीदवार ने 28,769 मतों से जीत हासिल की थी. जानकार बताते हैं कि इस सीट पर हिंदू-मुसलमान की सीधी टक्कर होती है. ऐसे में ओवैसी की दस्तक मुसलमान वोटों का बंटवारा कर सपा को सीधे नुकसान पहुंचा सकती है. दरअसल, इस सीट पर मतदाताओं की संख्या 2, 78, 845 है. मेरठ शहर सीट पर पिछले दो चुनावों से सपा, बीजेपी में कांटे की टक्कर रही है. 2017 में सपा से वर्तमान विधायक रफीक अंसारी ने बीजेपी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष डॉ. लक्ष्मीकांत वाजपेयी को 28, 769 मतों से हराकर जीत हासिल की थी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें